कोलेजियम की बैठक में नहीं हो सका जस्टिस जोसेफ पर कोई फैसला, अधर में लटका प्रमोशन

0

नई दिल्ली। जस्टिस केएम जोसेफ की सुप्रीम कोर्ट पहुंचने की राह फिलहाल थोड़ी मुश्किल नजर आ रही है। सुप्रीम कोर्ट में उन्हें जज बनाए जाने को लेकर आज हुई कोलेजियम की बैठक में कोई नतीजा नहीं निकल सका है। फिलहाल इस बारे में कोई भी फैसला नहीं लिया गया है। सूत्रों के मुताबिक मामले को लेकर फिर से बैठक होने की संभावना है। बीते दिनों कोलेजियम ने ही सरकार से जस्टिस जोसेफ को सुप्रीम कोर्ट में जज बनाने को लेकर सिफारिश की थी। जिस पर सराकर ने उन्हें अपनी सिफारिश पर पुनर्विचार करने के लिए कहते हुए जोसेफ की फाइल वापस लौटा दी थी।

जोसेफ के अलावा अन्य जजों को भी सुप्रीम कोर्ट भेजने पर किया जा रहा विचार
कॉलेजियम की इस बैठक में चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा के अलावा जस्टिस जे. चेलामेश्वर, जस्टिस रंजन गोगोई, जस्टिस मदन बी लोकूर और जस्टिस कुरियन जोसेफ शामिल हुए। कॉलेजियम की इस बैठक में आंध्र एवं तेलंगाना हाईकोर्ट, कलकत्ता, राजस्थान हाईकोर्ट के जजों को सुप्रीम कोर्ट में फेयर रिप्रेजेंटेशन के तौर पर नियुक्ति की सिफारिश पर भी फैसला टल गया।

इससे पहले 10 जनवरी को केएम जोसेफ की नियुक्ति की सिफारिश की गई थी, लेकिन सरकार ने संबंधित फाइल शुक्रवार को कॉलेजियम को वापस कर दी थी। वहीं इसके बाद सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस कुरियन जोसेफ ने केंद्र के फैसले पर असहमति जताते हुए कहा है कि क्षेत्रीय प्रतिनिधित्व और वरिष्ठता सुप्रीम कोर्ट के जजों को चुनने का मुख्य मानदंड नहीं हो सकता है।

सुप्रीम कोर्ट ने इस साल दस जनवरी को जस्टिस जोसेफ और वरिष्ठ वकील इंदु मल्होत्रा को सुप्रीम कोर्ट का जज बनाने की शिफारिश की थी। हालांकि सरकार ने इंदु मल्होत्रा के नाम पर तो मंजूरी दे दी, लेकिन जोसेफ के नाम पर फिर से विचार करने को कहा था। इसे लेकर सुप्रीम कोर्ट कॉलेजियम की आज यह अहम बैठक हुई। लेकिन फिलहाल इस बैठक में मामले पर कोई भी फैसला नहीं लिया गया है।

loading...
शेयर करें