गरीब पर भारी पड़े सिक्‍के की चोट, हुई मौत

0

धनबाद। भारत सरकार बाजार में वहीं सिक्‍के उतारती है जो चलते हो। लेकिन ये सिक्‍के एक गरीब के लिए जानलेवा बन गए। वो भी शासन के लापरवाही के कारण। गरीबी एवं आर्थिक तंगी की मार झेल रहे एक व्‍यक्‍ति ने सिक्‍कों के न चलने के कारएा जहर खाकर आत्‍महत्‍या कर ली।

सूत्रों के मुतबिक आत्‍महत्‍या करने वाले माणिक पांडेय चॉकेलट बेचकर अपने परिवार का किसी तरह भरण पोषण करता था। लेकिन जब वह एक बार बाजार से चाकेलेट बेचकर घर पहुंचा तो उसे जो सिक्‍के पहले धड़ाधड चल रहे थे वे अचानक बाजार में नहीं चले। जिससे आहत होकर उसने मौत को गले लगा लिया।

मिली जानकारी के मुताबिक मणिक पांडेय स्‍कूल बस चलाकर परिवार का पालन पोषणा करते थे। लेकिन आंखो से कम दिखाई देने के कारण यह काम हाथ से चला गया। इसके बाद वह चाकलेट बेंचकर परिवार का चलाने लगे। वहीं उनकी पत्‍नी लोगों के घरों में झांडू पोछाकर परिवार को चलाने का काम करती है। लेकिन माणिक के लिए सबसे बड़ी समस्या अब सिक्के थे, जो चॉकलेट बेचने के बाद इनके पास आते थे। जिनकी यह अफवाह बनी हुई है कि वो बाजार में नहीं चलते हैं।

loading...
शेयर करें