चीनी घुसपैठ के बाद पता चला भारत का है क्षेत्र, गूगल मैप से मांगी सहायता

0

नई दिल्ली। पिछले साल के अंत महीने में चीनी सेना की अरुणांचल प्रदेश में घुसपैठ करने की खबर सामने आई थी। चीन की सेना सियांग जिले के तूतिंग इलाके के बिशिंग गांव में घुसपैठ किया था। मिली जानकारी के अनुसार मैक मोहन लाइन से 1.25 किलोमीटर की दूरी पर पहुंच गए थे। इतना ही नहीं अपने साथ वो रोड बनाने का समान भी लाए थे।

सूत्रों के मुताबिक यह राज्‍य का सबसे दूर इलाके में से एक है। वहीं सबसे हैरान करने वाली बात यह है कि क्षेत्र में मौजूद अधिकारियों को यह भी पता नहीं था, कि यह इलाका भारत का है। वहीं अंग्रेजी अखबार टाइम्स ऑफ इंडिया के अनुसार तूतिंग सर्कल के अतिरिक्त उपायुक्त के अपांग ने कहा कि चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी के जवान जिस इलाके में घुसे थे, वो पहुंच से दूर है।

आगे कहा कि शिकारियों के अलावा कोई भी आदमी इस क्षेत्र में नहीं जाता है। क्योंकि यह दुर्गम इलाकों में से एक है। अधिकारी ने कहा कि घुसपैठ से पहले तक इस इलाकों को नोमेन्स लैंड समझा जाता था। वो इसलिए क्‍योंकि यहां पर कोई ऐसा साक्ष्‍य नहीं है जो यह बताएं कि यहां से देश की सीमा है जैसे नदी या नहर।

इतना ही नहीं एक ऑनलाइन पोर्टल के मुताबिक लिखा गया है कि चीनी सैनिकों के यहां पहुंचने के बाद गूगल मैप के मदद ली गई। जिससे यह पता चला कि क्षेत्र भारत का ही हिस्सा है।’

loading...
शेयर करें