जब मंच पर सबके सामने मुलायम सिंह यादव ने इंस्‍पेक्‍टर को उठाकर दिया था पटक

0

मुलायम सिंह यादवभारतीय राजनीति में जमीन से जुड़े नेताओं का जब भी जिक्र किया जाता है तो उनमें समाजवादी पार्टी के मुखिया मुलायम सिंह यादव का नाम काफी ऊपर दिखाई देता है। मुलायम सिंह यादव का उनके गृह राज्य उत्तर प्रदेश में उनकी खांटी राजनीति के कारण ‘धरती पुत्र’ की संज्ञा दी जाती है। उत्तर प्रदेश में मुलायम सिंह से जुड़े कई किस्से मशहूर हैं। इन्हीं किस्सों में से एक किस्सा ऐसा है, जिसमें कहा जाता है कि उन्होंने मंच पर ही एक पुलिस इंस्पेक्टर को उठाकर पटक दिया था। बताया जाता है कि वह पुलिस इंस्पेक्टर मंच पर एक कवि को उसकी कविता नहीं पढ़ने दे रहा था।

मुलायम सिंह यादव हैं ‘धरती पुत्र’

22 नवंबर, 1939 को इटावा के सैफई में जन्मे मुलायम सिंह यादव के पिता एक पहलवान थे और मुलायम सिंह को भी पहलवान बनाना चाहते थे। हालांकि मुलायम सिंह पहलवानी के कारण ही राजनीति में आए। दरअसल मुलायम सिंह यादव के राजनैतिक गुरु नत्थूसिंह मैनपुरी में आयोजित एक कुश्ती प्रतियोगिता के दौरान मुलायम से काफी प्रभावित हुए और फिर यहीं से मुलायम सिंह यादव का राजनैतिक करियर शुरु हो गया।

Also Read : बड़ा झटका : हिलेगी गुजरात की धरती, 15 विधायकों ने छोड़ा भाजपा का साथ, कांग्रेस में होंगे शामिल

मुलायम सिंह यादव साल 1967 में इटावा के पास स्थित जसवंतनगर विधानसभा से पहली बार चुनाव जीतकर विधानसभा में पहुंचे थे। मुलायम सिंह यादव यह चुनाव भारतीय राजनीति के दिग्गज राममनोहर लोहिया की संयुक्त सोशलिस्ट पार्टी के टिकट पर यह चुनाव जीते थे। इसी बीच 1968 में राममनोहर लोहिया का निधन हो गया। इसके बाद मुलायम उस वक्त के बड़े किसान नेता चौधरी चरणसिंह की पार्टी भारतीय क्रांति दल में शामिल हो गए।

Also Read : कई देशों की बैंकों से फ्रॉड कर खुद की एयरलाइंस खड़ा करने वाले शख्स को 20 साल बाद भी तलाश रही इंटरपोल

1974 में मुलायम सिंह बीकेडी के टिकट पर दोबारा विधायक बने। इसी बीच इमरजेंसी के दौरान मुलायम सिंह यादव भी जेल गए। जसवंतनगर से तीसरी बार विधायक चुने जाने पर मुलायम सिंह यादव रामनरेश यादव की सरकार में सहकारिता मंत्री बने। चौधरी चरणसिंह के निधन के बाद मुलायम सिंह यादव का राजनैतिक कद बढ़ना शुरु हुआ। हालांकि चौधरी चरण सिंह की दावेदारी के लिए मुलायम सिंह यादव और चौधरी चरण सिंह के बेटे और रालोद नेता अजीत सिंह में वर्चस्व की लड़ाई भी छिड़ी।

Also Read : 2019 से पहले लगने लगे नए पीएम पर कयास, इन नेताओं के नाम पर हो रही चर्चा

1990 में जनता दल में टूट हुई और 1992 में मुलायम सिंह यादव ने समाजवादी पार्टी की नींव रखी। राजनैतिक गठजोड़ के चलते मुलायम सिंह यादव 1989 में पहली बार उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री बने। 1991 में हुए मध्यावधि चुनाव हुए और मुलायम सिंह यादव को हार का मुंह देखना पड़ा। 1993 में मुलायम सिंह यादव ने सत्ता कब्जाने के लिए बहुजन समाज पार्टी के साथ गठजोड़ कर लिया। यह गठजोड़ काम कर गया और वह फिर से सत्ता में आ गए। मुलायम सिंह यादव केन्द्र में रक्षा मंत्री भी बने।

एक बार गठजोड़ के चलते मुलायम सिंह यादव देश के प्रधानमंत्री बनने के काफी करीब पहुंच गए थे, लेकिन लालू प्रसाद यादव और शरद यादव ने उनके इरादों पर पानी फेर दिया। 2003 में मुलायम सिंह यादव एक बार फिर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री बने। बहरहाल उत्तर प्रदेश की राजनीति अब मुलायम सिंह यादव के बेटे अखिलेश यादव संभाल रहे हैं और वह मौजूदा पार्टी अध्यक्ष भी हैं।

(Note– ये खबर हमने jansatta.com वेबसाइट से ली है, इसमें कितनी सच्चाई है इसकी जिम्मेदारी puridunia.com नहीं लेता, इसलिए हमने इसे अपने CopyPaste सेक्शन में लगाया है)

Source : jansatta.com से साभार

loading...
शेयर करें