‘तोगड़िया युग’ का हुआ अंत, कोकजे चुने गए विहिप के नए अंतर्राष्ट्रीय अध्यक्ष

0

नई दिल्ली: विश्व हिंदू परिषद (विहिप) में काफी लम्बे समय से चल रहे ‘तोगड़िया युग’ शनिवार को ख़त्म हो गया। उनके स्थान पर अब हिमाचल प्रदेश के पूर्व राज्यपाल वीएस कोकजे (विष्णु सदाशिव कोकजे) को आज विहिप का नया अंतर्राष्ट्रीय अध्यक्ष चुन लिया गया है। इस पद के लिए शनिवार को हुए मतदान के दौरान उन्होंने तोगड़िया के करीबी माने जाने वाले राघव रेड्डी को हराकर यह पद हासिल किया।

मिली जानकारी के अनुसार, विहिप के अंतर्राष्ट्रीय अध्यक्ष पद के लिए शनिवार को को हुए मतदान में कुल 192 लोगों ने हिस्सा लिया, जिसमें से 131 लोगों ने कोकजे का समर्थन किया। इसके अलावा 60 वोट राघव रेड्डी के पक्ष में पड़े।

आपको बता दें कि विहिप की स्थापना को 52 साल हो चुके हैं लेकिन यह पहला मौका है जब चुनाव के माध्यम से विहिप के अंतर्राष्ट्रीय अध्यक्ष को चुना गया है।

गौरतलब है कि विहिप अध्यक्ष पद के लिए आपसी सहमति से किसी एक सदस्य का चुनाव कर लिया जाता था। और उसी व्यक्ति को सामूहिक रजामंदी से वीहिप का अध्यक्ष चुन लिया जाता था।

लेकिन इस बार विहिप की स्थापना के बाद ऐसा पहली बार हो रहा है कि अध्यक्ष पद के लिए किसी एक नाम पर सहमति ना बनने पर विहिप ने चुनाव कराने का फैंसला किया गया। जिसे लेकर आगामी 14 अप्रैल को दिल्ली से सटे गुरुग्राम में चुनाव कराने का ऐलान किया गया था।

विहिप के अंतर्राष्ट्रीय अध्यक्ष बने विष्णु सदाशिव कोकजे का जन्म 6 सितंबर 1939 को मध्य प्रदेश में हुआ था। उन्होंने इंदौर से वकालत की परीक्षा पास की 1964 में वकील के तौर पर काम करना शुरू कर दिया।

कोकजे 1990 में मध्य प्रदेश हाईकोर्ट के जज नियुक्त किए गए। फिर 2001 में वह राजस्थान हाईकोर्ट के जज बने। इसके बाद कोकजे 2003 से 2008 तक हिमाचल प्रदेश के राज्यपाल भी रहे। कोकजे संघ से जुड़ी संस्था भारत विकास परिषद के अध्यक्ष रह चुके हैं।

loading...
शेयर करें