फिल्म रिव्यू : न एक्शन..न रोमांस और न ड्रामा, फिर भी दिल को छू लेगी ईशान की ‘बियॉन्ड द क्लाउड्स’

0

फिल्म का नाम :  ‘बियॉन्ड द क्लाउड्स’

स्टार कास्ट  : ईशान खट्टर, मालविका मोहनन, तनिष्ठा चटर्जी

डायरेक्टर : माजिद मजिदी

रेटिंग : 2 स्टार

'बियॉन्ड द क्लाउड्स'

कहानी

फिल्म की कहानी दो भाई- बहन आमिर (ईशान खट्टर) और तारा (मालविका मोहनन) की जिंदगी पर बेस्ड है। माता-पिता की मौत के बाद आमिर अपनी बहन से साथ रहने लगता है लेकिन तारा का पति आए दिन शराब पीकर तारा के साथ अक्सर आमिर को भी पीटता। एक दिन तंग आकर आमिर अपनी बहन का घर छोड़कर भाग जाता है। आमिर का सिर्फ एक ही मकसद रह जाता है और वो सिर्फ पैसा कमाना होता है। जिसके चलते वो ड्रग्स सप्लाई का काम शुरु कर देता है। वहीं दूसरी और तारा के हाथों किसी का खून हो जाता है जिसके बाद वो जेल पहुंच जाती है। ऐसे में आमिर की जिंदगी में तारा को बचाने की जिम्मेदारी आती है। तारा के हाथों किसका खून हो जाता है, क्या आमिर अपनी बहन को बचा पाता है। ये जानने के लिए आपको ये फिल्म देखनी पड़ेगी।

डायरेक्शन

‘चिल्ड्रेन ऑफ हेवेन’ और ‘द फादर’ जैसी फ़िल्मों से वर्ल्ड सिनेमा में पहचान बनाने वाले माजिद मजिदी ने अच्छा काम किया है। इसकी शूटिंग मुंबई की कई स्लम कॉलोनियों में की गई है जो कि इसे एक- दम रियलिस्टिक लुक देती है। हालांकि कहानी में उतना दम नहीं है और न ही डायलॉग्स में वो बात है जो दिमाग में असर छोड़ जाए। फिल्म का क्लाइमैक्स भी कुछ खास नहीं है। कुछ मिलाकर फिल्म सबको अच्छी नहीं लगेगी।

एक्टिंग

पहली फिल्म के हिसाब से ईशान ने जबरदस्त एक्टिंग की है। भाई और ड्रग्स सप्लायर के रोल में वो एकदम फिट बैठे हैं। साउथ एक्ट्रेस मालविका मोहनन ने भी अच्छा काम किया है। एक्टिंग के मामले में फिल्म जबरदस्त है। फिल्म तनिष्ठा चटर्जी के लिए ज्यादा स्कोप नहीं दिखा। देखा जाए तो एक्टिंग के लिहाज से फिल्म अच्छी है।

म्यूजिक

फिल्म का म्यूजिक थोड़ा निराशाजनक है। फिल्म में ऐसा एक भी गाना नहीं है जो आपको याद रहे या आपके दिल को छुए।

देखें या नहीं

अगर आप एक्शन, ड्रामा और रोमांस वाली फिल्मों के शौकीन हैं तो ये फिल्म आपके लिए नहीं है।

loading...
शेयर करें