फिल्म रिव्यू : सबको पसंद नहीं आएगी ‘ओमेर्टा’, राजकुमार राव की एक्टिंग ने जीता दिल

0

फिल्म का नाम : ओमेर्टा

स्टार कास्ट : राजकुमार राव

डायरेक्टर : हंसल मेहता

लेखक:  मुकुल देव और हंसल मेहता

रेटिंग : 3 स्टार

राजकुमार राव

कहानी

फिल्म की कहानी ओमार शाहिद शेख (राजकुमार राव) की है जो पैदा तो पाकिस्तान में हुआ, लेकिन उसका पालन-पोषण और परवरिश लंदन में हुई है। ओमार 90 के दशक की शुरुआत में बोस्निया और फिलिस्तीन में मारे जा रहे मुस्लमानों के लिए इंसाफ चाहता है और उनके साथ हो रही नाइंसाफी के खिलाफ लड़ना चाहता है। अपने इन्हीं जज्बातों को वो लंदन के एक मौलाना के साथ साझा करता है और फिर शुरू होता है जिहाद का सफर। इस सफर के दौरान वो पाकिस्तान से होते हुए भारत में दाखिल होता है। फिल्म में 1992 से लेकर 2002 तक की अवधि में ओमार के कई कारनामों के बारे में बताया गया है।

इसके बाद पुलिस की कार्रवाई में ओमार सहित दो अन्य आतंकवादियों को 93 के बम धमाकों की साजिश के आरोप में जेल में बंद कर दिया जाता है। इसके बाद पाकिस्तान के आतंकी भारतीय प्लेन हाईजैक कर तीन आतंकवादियों की रिहाई मांगते हैं। इन तीन आतंकवादियों में उमर के साथ हाफिज सईद भी शामिल था। 1999 में भारत-नेपाल की फ्लाइट को हाइजैक किया गया था जिसके पैसेंजर्स की सुरक्षा के बदले उमर सहिद दो आतंकवादियों को भारत सरकार द्वारा रिहा किया गया और उसके बाद होता है वर्ल्ड ट्रेड सेंटर पर आतंकी हमला। इस तरह की कई घटनाओं को बारीकी से दिखाया गया है जिसके लिए आपको फिल्म देखनी पड़ेगी।

डायरेक्शन

हंसल मेहता ने इस फिल्म का निर्देशन बेहद सच्चाई से किया है। फिल्म की लंबाई कम है, फिल्म की रिसर्च वर्क कमाल का है। अनुज प्रकाश धवन की सिनेमेटोग्राफी भी फिल्म में ठीक- ठाक रही। फिल्म में क्रिएटिव लिबर्टी नहीं ली है जिसके कारण ये एक बेहद गंभीर डॉक्यूमेंट्री जैसी लगती है। फिल्म में कुछ भी ऐसा नहीं है, जो कमजोर दिखे। हालांकि हंसल मेहता ने अंत तक ये बात समझाने में असमर्थ दिखते हैं कि आखिर उन्होंने ये फिल्म बनाई क्यों है?

एक्टिंग

राजकुमार राव ने हमेशा की तरह जबरदस्त एक्टिंग की है। राजकुमार आतंकवादी के रोल में बिलकुल फिट बैठे हैं। उन्होंने ओमार के किरदार में खुद को बखूबी ढाला। वे पूरी फिल्म में छाए हुए हैं। हालांकि कोई भी बहुत नामी एक्टर फिल्म में नहीं दिखता। लेकिन सभी ने अपने-अपने किरदारों को बखूबी निभाया है।

म्यूजिक 

फिल्म में गाने नहीं हैं लेकिन बैकग्राउंड स्कोर बहुत बढ़िया है।

देखें या नहीं

अगर आप राजुकमार राव के फैन हैं या ऑफबीट फिल्मों के शौकीन है तो ये फिल्म आप देख सकते हैं।

loading...
शेयर करें