भूलकर भी मंगलसूत्र के साथ न करें ये छेड़छाड़, खतरे में पड़ जाएगा पति का जीवन

0

नई दिल्ली। हिंदू धर्म के अनुसार मंगलसूत्र हर शादीशुदा स्त्री के लिए पहनना बेहद जरुरी माना गया है। यह न सिर्फ लड़की के सुहागन होने की निशानी होता है, बल्कि इसके अन्य भी कई महत्व होते है। ज्योतिषशास्त्र के अनुसार इसे धारण करते समय स्त्रियों को कुछ सावधानियां बरतनी चाहिए। ऐसा न करने पर आपके पति का जीवन संकट में पड़ जाता है। इसके अलावा वैवाहिक जीवन में गृह-कलेश भी होने शुरु हो जाते हैं। आज हम आपको बताने जा रहे हैं कि मंगलसूत्र पहनते समय कौन-कौन सी सावधानियां बरतनी चाहिए।

जानिए मंगलसूत्र पहनते समय क्या-क्या सावधानियां बरतें
विवाह के समय पति स्त्री के गले में मंगलसूत्र पहनाता है, तब से स्त्री का मंगलसूत्र को उतारना वर्जित माना जाता है। परंतु किसी स्थितिवश मंगलसूत्र उतारना पड़े तो अपने गले में काला धागा अवश्य बांध कर रखे।

किसी भी स्त्री को किसी अन्य स्त्री का मंगलसूत्र धारण नहीं करना चाहिए, ऐसा करने से उस स्त्री के पति की आयु कम होती है और पति-पत्नी के बीच तनाव की स्थितियां बनने लगती हैं।

जिस प्रकार एक सुहागन स्त्री के जीवन में सिंदूर व बिछिया का महत्व होता है उसी प्रकार मंगलसूत्र भी उनेक लिए उतना ही महत्वपूर्ण होता है। यह उनके सुहाग को लंबी आयु प्रदान करता है तथा बुरी नज़र से उनके पति की रक्षा करता है।

प्रत्येक स्त्री को वहीं मंगलसूत्र धारण करना चाहिए जिसमें काले मोती हों, क्योंकि मान्यता है कि यह काले मोती बुरी नजरों से पति की रक्षा करते हैं।

मंगलसूत्र में सोने का रहना आवश्यक होता है, क्योंकि सोना गुरु के प्रभावों को कम करता है और वैवाहिक जीवन में सुख एवं ऊर्जा प्रदान करता है।

loading...
शेयर करें