युवाओं में तेज़ी पांव पसार रहा ‘सेक्सटिंग’, जानिए क्या है ये..

0

कैलिफ़ोर्निया। आई विल शो यू, यू शो मी फर्स्ट। नहीं समाज पाए न, लेकिन ऐसे वाक्य आज के टीनएजर्स से कह कर देखिए तो कुछ ही पलों में आपको आपके मोबाइल पर एक न्‍यूड फोटो आ आयगी। ये कोई साधारण वाक्य नहीं। शोधकर्ताओं की मानें तो टेक्‍सट या ईमेल के माध्यम से इस प्रकार के सेक्सटिंग को आधुनिक नाम दिया गया है।

sexting

मोबाइल व इन्टरनेट ने जिस प्रकार से गति पकड़ी है वैसे में पर्रेंट्स को अपने बच्चों पर आँख बंद के विश्वास नहीं करना चाहिए। अपने बच्‍चों पर अंधा विश्‍वास करने की बजाय बेहतर है उनकी एक्टिविटीज पर ध्‍यान दें। हाल ही में एक अमेरिकी स्‍कूल के अध्‍ययन से चौंकाने वाले नतीजे आए हैं। इन परिणामों के अनुसार टीनएजर्स में एसएमएस के जरिए पोर्न पिक्‍चर्स, जिसे हम दूसरे शब्‍दों में सेक्‍सटिंग कहें, का आदान प्रदान धड़ल्‍ले से हो रहा है।

आंकड़ों का जायजा लें तो एक तिहाई टीनएजर्स के बीच इस तरह का आदान प्रदान हो रहा है। आश्‍चर्य की बात कि इन टीनएजर्स में इस तरह के पिक्चरों की काफी मांग है। 10 में से 6 टीनएजर्स इस तरह की फोटो का डिमांड करते हैं। पहले के आंकड़ों को देखें तो एक फीसद टीनएजर्स ही इस तरह की एक्टिविटीज में लिप्‍त थे जबकि ये नवीन आंकड़ें पैरेंट्स को काफी परेशान करने वाले हैं।

टेक्‍सास यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं के अनुसार, टीनएजर्स के बीच पोर्न फोटो का आदान प्रदान मोबाइल के जरिए होता है। वहीं दूसरी ओर टेक्‍सास के मेडिकल डिपार्टमेंट की गाइनाकोलॉजिस्ट कहती हैं, वास्‍तव में लड़कों के बीच इस तरह के न्‍यूड व पोर्न फोटो की मांग करते हुए ज्‍यादातर लड़कियां झिझकती हैं, पर इस हकीकत से भी इनकार नहीं किया जा सकता है कुछ बेझिझक हो इस तरह की डिमांड रखती हैं।

इस बात से ही हम अंदाजा लगा सकते है कि हमारा वर्तमान युवा किस ओर दौड़ लगा रहा है।

loading...
शेयर करें