2G घोटाला : चार सालों में CBI नहीं पूरी कर पाई जांच, कोर्ट ने लगाई फटकार

0

नई दिल्ली। देश के मशहूर 2 जी घोटाले को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने सीबीआई व ईडी को फटकार लगाई है। कोर्ट का कहना है कि चार साल बीतने के बाद भी आखिर यह जांच एजेंसियां कर क्या रही हैं। आज सुनवाई के दौरान कोर्ट ने कहा कि इस तरीके से जांच के नाम पर देश को अंधेरे में नहीं रखा जा सकता है। यह महत्वपूर्ण मामला है। कोर्ट ने मामले की सुनवाई आगे बढ़ाते हुए सीबीआई को 6 महीनों के अंदर इसकी जांच पूरी कर रिपोर्ट सबमिट करने के आदेश दिए हैं।

आनंद ग्रोवर की जगह तुषार मेहता होंगे अतिरक्ति सॉलिसिटर जनरल

सुप्रीम कोर्ट ने सीनियर एडवोकेट आनंद ग्रोवर को 2जी स्पेरक्ट्रम केस के स्पेटशल पब्लिक प्रॉसेक्यूसटर (एसपीपी) की जिम्मे्दारी से रिलीव कर दिया। 2जी केस के लिए आनंद ग्रोवर की नियुक्तव 2014 में हुई थी। ग्रोवर की जगह अतिरक्ति सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता को 2जी मामले में एसपीपी नियुक्तग करने के सरकार के फैसले पर भी सुप्रीम कोर्ट ने मुहर लगा दी।

सुप्रीम कोर्ट ने एक एनजीओ की तरफ से फाइल की गई कंटेम्ट्न पिटीशन को खारिज कर दिया है। इस एनजीओ ने सरकार की तरफ से मेहता को अतिरक्ति सॉलिसिटर जनरल बनाए जाने के खिलाफ यह याचिका दायर की थी।

इससे पहले इस मामले में सीबीआई की विशेष अदालत ने देश का सबसे बड़ा घोटाला माने जाने वाले 2जी स्पेक्ट्रम स्कैम में पूर्व दूरसंचार मंत्री ए राजा और द्रमुक सांसद को मनी लॉन्ड्रिंग से जुड़े मामले में सभी आरोपों से बरी कर चुकी है।

राजा और कनिमोझी के अलावा अन्य आरोपी शाहिद बलवा, विनोद गोयनका, आसिफ बलवा, राजीव अग्रवाल, करीम मोरानी, पी अम्रीथम और शरद कुमार को भी बरी किया जा चुका है।

loading...
शेयर करें