आसाराम रेप केस : वाराणसी और लखनऊ में समर्थकों ने शुरू किया प्रार्थना और हवन

0

लखनऊ। नाबालिग से रेप मामले में आज जोधपुर सेंट्रल जेल में बनी एससी/एसटी विशेष अदालत आसाराम पर अपना फैसला सुना सकती है। फैसले से पहले वाराणसी में अस्राम के अनुयायियों ने आश्रम में हवन और प्रार्थना शुरू कर दी है।आपको बता दें कि आसाराम के अनुवायियों को घर में ही रहकर उनके लिए प्रार्थना करने का निर्देश दिया गया था।

आसाराम

यही हाल राजधानी लखनऊ का भी है यहां भी आसाराम के भक्त अपने अपन घरों में उनकी रिहाई के लिए हवन कीर्तन कर रहे हैं। वहीँ एयरपोर्ट के पास स्थित आसाराम में भारी संख्या में उनके समर्थकों का जुटाव होना शुरू हो गया है। पीड़िता के पिता का कहना है कि उन्हें कानून पर पूरा भरोसा है। आसाराम को सख्त सजा दी जाएगी। वहीँ फैसले को देखते हुए शाहजहांपुर में पीडिता के घर की सुरक्षा बढ़ा दी गई है।

सीसीटीवी कैमरों के जरिये निगरानी रखी जा रही है। आसाराम के रुद्रपुर स्थित आश्रम में भी सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं। रामचंद्र मिशन क्षेत्र के गांव रुद्रपुर स्थित आसाराम आश्रम में भी पुलिस चौकसी बढ़ा दी गई है। आश्रम के समर्थकों पर भी पुलिस नजर रख रही हैं।

आसाराम पर नाबालिग से रेप का आरोप

आसाराम को उत्तर प्रदेश के शाहजहांपुर की एक किशोरी की शिकायत पर गिरफ्तार किया गया था। पीड़िता आसाराम के मध्य प्रदेश के छिंदवाड़ा आश्रम में अध्ययन करती थी। पीड़िता का आरोप है कि आसाराम ने जोधपुर के पास मनाई इलाके में अपने आश्रम में बुलाकर उससे 15 अगस्त, 2013 को दुष्कर्म किया था।

इसके बाद 21 अगस्त 2013 को जोधपुर के महिला थाने में विधिवत एफआईआर दर्ज कर जांच शुरू हुई। 31 अगस्त 2013 को काफी मशक्कत छिन्दवाड़ा आश्रम से आसाराम को गिरफ्तार किया गया।। 2 सितम्बर 2013 से ही न्यायिक हिरासत में हैं। 13 फ़रवरी 2014 को कोर्ट में आरोप तय हुआ। 16 दिसम्बर 2016 से विशेष कोर्ट में केस शुरू हुआ। 7 अप्रैल 2018 को मामले में बहस पूरी हुई और कोर्ट ने फैसला सुरक्षित रख लिया।

loading...
शेयर करें