गुजरात चुनाव: चुनाव आयोग के लिए VVPAT मशीन बनी दिक्कत, 3550 मशीनें निकली खराब

0

अहमदाबाद: ईवीएम मशीन को लेकर उठने वाले सवालों के बाद चुनाव आयोग ने वीवीपीएटी मशीन से मतदान कराने का निर्णय तो ले लिया है लेकिन चुनाव आयोग का वीवीपीएटी का इस्तेमाल टेढ़ी खीर साबित हो रही है। दरअसल, गुजरात विधानसभा चुनाव में इस्तेमाल की जाने वाली 3550 (वेरीफाइड पेपर ऑडिट ट्रेल) खराब निकली है।

मिली जानकारी के अनुसार, गुजरात चुनाव से पहले चुनाव आयोग ने मतदान के लिए प्रयोग में लाई जाने वाली वीवीपीएटी मशीनों की जांच की। इस टेस्टिंग में कुल 3550 मशीने खराब मिली, सबसे ज्यादा जामनगर, देवभूमि द्वारका और पाटन जिले में इस्तेमाल में लाई जाने वाली मशीनें खराब पाई गईं।

एक न्यूजपेपर से बात करते हुए अधिकारियों ने बताया कि गुजरात में कुल 70,182 वीवीपीएटी मशीनें इस्तेमाल की जानी हैं। गुजरात के मुख्य चुनाव आयुक्त बीबी स्वाईं ने कहा कि खराब मशीनों को उनके कारखाने में वापस भेजा जाएगा। जिन मशीनों में मामूली तकनीकी खराबी है उन्हें दुरुस्त किया जा सकता है।

एक वरिष्ठ चुनाव अधिकारी ने बताया कि खराब पाई गईं वीवीपीएटी मशीनों में सेंसर के काम न करने, प्लास्टिक के पुर्जों के टूटे हुए होने और मतदान पेटी (ईवीएम) से जोड़ने में दिक्कत होने जैसी समस्याएं पाई गईं। चुनाव आयोग ने मतदान के दौरान खराब हो जाने वाली वीवीपीएटी को बदलने के लिए 4150 अतिरिक्त मशीनों मंगाई हैं। गुजरात में कुल 182 विधान सभा सीटे हैं। गुजरात में दो चरणों में मतदान होगा।

आपको बता दें कि गुजरात में दो चरणों में चुनाव होना है। जिसमें से पहले चरण का मतदान नौ दिसंबर को होगा। इस चरण में 89 सीटों पर मतदान किए जाएंगे। जबकि दूसरा चरण 14 दिसंबर को होगा।  जिसमें 93 सीटों के लिए वोट डाले जाएंगे। चुनाव के नतीजे 18 दिसंबर को आएंगे।

loading...
शेयर करें

आपकी राय