अफ्रीकी देशों पर विवादित बयान देकर बुरा फंसे ट्रंप, मांगनी पड़ सकती है माफी

0

वाशिंगटन। अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की तरफ से अफ्रीकी देशों के लिए की गई अभद्र टिप्‍पणी पर प्रतिनिधि संघ ने माफी की मांग की है। बीबीसी की माने तो बीते दिनों शुक्रवार को वाशिंगटन डीसी में प्रतिनिधि संघ के एक समूह ने ट्रंप के बयान को हैरतभरा और भद्दा बताया है।

डोनाल्ड ट्रंप

उनकी इस टिप्‍पणी से अफ्रीकी संघ ने कहा कि इस टिप्पणी से अमेरिकी सिद्धांतों और साथ ही विविधता और मानव गरिमा के प्रति सम्मान की भावना का अपमान हुआ है। उन्होंने कहा, “इस पर हैरत, दुख और गुस्से के साथ ही हमारा दृढ़ विश्वास है कि अमेरिका के मौजूदा प्रशासन ने अफ्रीकी महाद्वीप और इसके लोगों को गलत समझ लिया है। अमेरिकी प्रशासन और अफ्रीकी देशों के बीच वार्ता की आवश्यकता है।”

आपको बता दें कि ट्रंप ने ओवल ऑफिस में हुई बैठक के दौरान अफ्रीकी आव्रजकों को लेकर भद्दी टिप्पणी की थी, जो शुक्रवार को मीडिया के जरिए पता चली। ट्रंप ने गुरुवार को सांसदों से कहा, “हम इन शिटहोल देशों से आ रहे लोगों को पनाह क्यों दे रहे हैं?” बीबीसी ने बताया कि ट्रंप की यह टिप्पणी हैती, अल सल्वाडोर और अफ्रीकी देशों के लोगों के संदर्भ में की गई थी। ट्रंप ने कहा कि हमें इनके बजाए नॉर्वे जैसे देशों के आव्रजकों को पनाह देनी चाहिए।

व्हाइट हाउस ने गुरुवार को इस टिप्पणी से इनकार नहीं किया लेकिन ट्रंप ने शुक्रवार को इस तरह की भाषा के इस्तेमाल से इनकार किया। हालांकि, उनकी इस टिप्पणी को लेकर काफी आलोचना हो रही है। व्हाइट हाउस में हुई इस बैठक में दो रिपबल्किन सीनेटर भी मौजूद थे, जिन्होंने ट्रंप के दावे का समर्थन किया लेकिन डेमोक्रेटिक सीनेटर डिक डर्बिन ने कहा कि ट्रंप ने अफ्रीकी देशों को कई बार ‘शिटहोल्स’ कहा और उनके खिलाफ नस्लभेदी भाषा का इस्तेमाल किया।

बीबीसी के मुताबिक, ट्रंप ने शुक्रवार को ट्वीट कर कहा कि उन्होंने इस निजी बैठक में जिस तरह की भाषा का इस्तेमाल किया, वह सख्त थी लेकिन उन्होंने उन शब्दों का इस्तेमाल नहीं किया।

loading...
शेयर करें