यूपी से ज्यादा अपना विकास कर रहे थे अखिलेश, खुद देखिए ये हैरान करने वाली रिपोर्ट

0

नई दिल्ली। एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स यानि कि एडीआर की रिपोर्ट में चौंकाने वाले खुलासे हुए हैं। पिछले 5 सालों में राजनीतिक पार्टियों की संपत्ति का ब्यौरा जारी करते हुए एडीआर ने अखिलेश यादव की समाजवादी पार्टी की संपत्ति में सर्वाधिक 200 प्रतिशत बढ़ोत्तरी होने की घोषणा की है। पैसे के मामले पर दूसरे नंबर पर तमिलनाडु की अन्नाद्रमुक पार्टी की संपत्ति में 155 प्रतिशत इजाफा हुआ है। रिपोर्ट को देखकर तो ऐसा ही लगता है कि यूपी से ज्यादा अपना विकास कर रहे थे अखिलेश यादव।

जानिए किस राजनीतिक दल के पास है कितना पैसा

एडीआर की रिपोर्ट के मुताबिक पिछले पांच सालों में अखिलेश सरकार की कुल संपत्ति 213 करोड़ से बढ़कर 635 करोड़ हो गई है। इसी तरह से एआईएडीएमके की कुल संपत्ति में वर्ष 2011-12 से 2015-16 के बीच 155 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। एआईडीएमके की कुल संपत्ति 88 करोड़ से बढ़कर 225 करोड़ रुपये हो गई है।

इसी अवधि में शिवसेना की संपत्ति 20.59 करोड़ रुपए से बढ़कर 39.56 करोड़ हो गई। संपत्ति में इजाफा करने के मामले में आम आदमी पार्टी भी पीछे नहीं है। इसकी संपत्ति में भी काफी इजाफा हुआ है। नवंबर 2012 में इस पार्टी का रजिस्ट्रेशन हुआ था। 2012-13 में इसके पास 1.16 करोड़ की संपत्ति थी। 2015-16 में यह बढ़कर 3.76 करोड़ हो गई।

चंद्रबाबू नायडू की तेलुगु देशम पार्टी ने 2011-12 में कुल पूंजी 11.538 करोड़ रुपये घोषित की थी जोकि 2015-16 में बढ़ कर 46.09 करोड़ हो गई यानी 299 फीसदी का इजाफा हुआ।

रीजनल पार्टियों की कुल संपत्ति को 6 मुख्य आधारों पर गिना गया है जिसमें लोन, एडवांस, डिपॉज़िट्स, फिस्क्सड असेट्स, टीडीएस, इन्वेस्टमेंट्स और दूसरी संपत्तियां आती हैं। एडीआर ने ये आंकड़े 2011-12 और 2015-16 में इन दलों की ओर से चुनाव आयोग और इनकम टैक्स को दी गई जानकारी के आधार पर जुटाए हैं।

loading...
शेयर करें