अमेरिका करेगा ईरान के साथ नई डील

0

अमरीकी वित्त मंत्री स्टीव मनुचन ने ईरान के प्रतिबंधों को लेकर बताया था कि अमेरिका के राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप ईरान पर नए प्रतिबंध लगा सकते हैं। कहा जा रहा था किल ट्रंप ने बीते शुक्रवार तक फ़ैसला करने का समय  लिया था। जिसमें उन्हें ये तय करना था कि 2015 में ईरान के साथ हुए परमाणु समझौते के तहत प्रतिबंधों में जारी छूट जारी रहेगी या नहीं।

ईरान पर परमाणु प्रतिंबध नहीं थोपेंगे ट्रंप

बताया जा रहा है कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप इस बात पर राजी हो गए हैं कि वो ईरान पर परमाणु प्रतिंबध नहीं थोपेंगे। लेकिन अधिकारियों का कहना है कि यह आखिरी बार होगा जब ट्रंप ने इस तरह की छूट दी है। व्हाइट हाउस के एक अधिकारी का कहना है कि ट्रंप चाहते हैं कि उनके यूरोपीय साथी 60 दिनों की इस अवधि का उपयोग ईरान के खिलाफ सख्त कदम उठाने के लिए आपसी सहमति बनाने के लिए करें। अपने बयान में उन्होंने इस बात को साफ कर दिया है कि यह आखिरी बार है जब प्रतिबंध को माफ किया गया है। अधिकारी ने कहा कि ट्रंप अब इस मामले पर अपने यूरोपीय सहयोगियों के साथ मिलकर काम करना चाहते हैं।

क्या था मामला– 2015 में तत्कालीन अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने ईरान के साथ यह समझौता किया था. इस समझौते के तहत ईरान को तेल बेचने और उसके केंद्रीय बैंक को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कारोबार की अनुमति मिली थी.

जिस समय ईरान को प्रतिबंधों से छूट दी गई, ठीक उसी समय यूएस ट्रेजरी ने ईरान के 14 लोगों और कंपनियों पर प्रतिबंध लगा दिया। जिसमें ईरान की न्यायपालिका के प्रमुख आयतुल्ला सादिक आमुली लारीजानी का नाम भी शामिल है। व्हाइट हाउस के एक अधिकारी ने बताया कि ईरान नाभिकीय समझौते को बनाए रखने के लिए राष्ट्रपति ने यह कदम उठाया है। ईरान नाभिकीय समझौते के पक्षकार यूरोपीय देश इस डील में बने रहना चाहते हैं जबकि अमेरिका चाहता है कि 60 दिनों की इस अवधि के दौरान सभी यूरोपीय देश ईरान समझौते की जगह एक नए एग्रीमेंट पर आपसी सहमति बनाएं। इस डील के लिए होने वाली चर्चा में ईरान को शामिल नहीं किया जाएगा। हालांकि अगर वो एग्रीमेंट की शर्तों को तोड़ेगा तो उसे अमेरिका सहित यूरोपीय प्रतिबंधों के अधीन रहना पड़ेगा।

loading...
शेयर करें