दिल्ली वासियों को मोदी सरकार का एक और झटका, फिर बढ़ेगा मेट्रो का किराया

0

नई दिल्ली। जहां नए साल में सरकार नए तोहफे और खुशखबरी देती है वहीं सरकार दिल्ली वासियों को झटका देने के लिए तैयार है। दरअसल, मेट्रो का किराया तय करने के लिए अधिकृत केंद्र द्वारा नियुक्त समिति की सिफारिशों की मानें तो मेट्रो का किराया जनवरी 2019 में एक बार फिर बढ़ सकता है। जिसके कारण लोगों को यातायात में परेशानी और महंगाई का सामना करना पड़ सकता है।

बता दें मेट्रो रेलवे अधिनियम के तहत बनाई गई चौथी किराया निर्धारण समिति ने अपनी रिपोर्ट में ‘ऑटोमेटिक वार्षिक किराया समीक्षा’ की भी सिफारिश की है, जिसके तहत किराया सात फीसदी तक बढ़ेगा।Image result for delhi metro

रिपोर्ट में समिति ने कहा कि, “यह ऑटोमेटिक किराया समीक्षा एक जनवरी 2019 से लागू होने वाली है और अगली एफ.एफ.सी की सिफारिशों तक हर साल मैट्रो के किराए में बढ़ोत्तरी होती रहेगी।” बता दें अभी हाल में जब मेट्रो के किराए में बढ़ोतरी की गई थी तब अरविन्द केजरीवाल की सरकार के साथ टकराव में केंद्रीय आवासीय और शहरी मामलों के मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने दावा किया था कि, ‘केंद्र एफ.एफ.सी की सिफारिशों से छेड़छाड़ करने की स्थिति में नहीं है क्योंकि ऐसा करना ‘कानून सम्मत’ का उल्लंघन है।’ इसके बाद 100 फीसदी तक किराए में बढ़ोत्तरी हुई थी। इस पर DMRC ने 24 नवंबर को कहा भी था कि, ’10 अक्टूबर को किराए में बढोत्तरी के बाद मेट्रो में यात्रियों की संख्या प्रति दिन तीन लाख तक घट गई है, और धीरे-धीरे ये संख्या घटती ही जा रही है।’

आखिर क्यों बढ़ने वाला है किराया

समिति ने सिफारिश की है कि डी.एम.आर.सी ऑटोमेटिक किराया समीक्षा फार्मूले के आधार पर साल में एक बार किराए की समीक्षा कर सकती है। यह फॉर्मूला कर्मचारियों, रखरखाव, ऊर्जा के खर्च और उपभोक्ता मूल्य सूचकांक में वृद्धि पर आधारित है।

loading...
शेयर करें

आपकी राय