लखनऊ की बेगम हमीदा हबीबुल्ला का 102 वर्ष की उम्र में निधन

0

लखनऊ|सांसद और उत्तर प्रदेश सरकार में मंत्री रह चुकीं लखनऊ के लोकप्रिय चेहरों में शुमार बेगम हमीदा हबीबुल्ला का मंगलवार सुबह निधन हो गया। वह 102 वर्ष की थीं। पारिवारिक सूत्रों ने यह जानकारी दी।

बेगम हमीदा हबीबुल्ला
हैदराबाद हाईकोर्ट में चीफ जस्टिस रहे नाजिर यार जंग बहादुर की बेटी और मेजर जनरल इनायत हबीबुल्लाह की पत्नी बेगम हमीदा हबीबुल्ला महिला सशक्तीकरण का जीता-जागता उदाहरण थीं। मेजर जनरल इनायत हबीबुल्लापुणे के खडकवासला में नेशनल डिफेंस अकादमी के संस्थापक थे।

20 नवंबर, 1916 को जन्मी बेगम हमीदा हबीबुल्ला जब 30 साल की थी तब भारत ने आजादी हासिल की और वो  आधुनिक भारत के राजनीतिक इतिहास का साक्षी बनी। वो नए भारत के निर्माण की गवाह बनी। वो कांग्रेस कि दिगाज नेताओं में से एक मानी जाती थीं।  उन्होंने लखनऊ की चिकन कारी और महिलाओं को सशक्त बनाने के लिए सेवा (स्वयं कार्यरत महिला संघ) की स्थापना की।

उनके बेटे, वजाहत हबीबुल्ला, भारत के पहले मुख्य सूचना आयुक्त बने और राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग के पूर्व अध्यक्ष थे। बेगम हमीदा ने अपने पति की सेवानिवृत्ति के बाद 1965 में सक्रिय राजनीति में हिस्सा लिया। वह हैदरगढ़ (बाराबांकी) से विधायक थीं और 1971-1973 के बीच सामाजिक और हरिजन कल्याण राज्य मंत्री रहीं।  उनका अंतिम संस्कार मंगलवार को बाराबांकी में उनके पैतृक गांव सैदनपुर में किया जाएगा।

loading...
शेयर करें