बड़ा झटका : अब आपके खाते में जमा पैसों पर आपका कोई हक नहीं, मोदी सरकार लाने जा रही नया कानून

0

नई दिल्ली। नोटबंदी और गीएसटी के बाद अब सरकार आपको एक और बड़ा झटका देने वाली है। बहुत जल्द एक ऐसा नियम आने वाला है जिसके तहत आप बैंक में जमा अपना ही पैसा नहीं निकाल पाएंगे। जी हां, अगर बैंक दिवालिया हो गया तो वो आपका पैसा जब्त कर सकता है और आपके पैसे आपको ही लौटाने से मना भी कर सकता है।

जल्द आने वाला है ये नया बिल

फाइनेंशियल रेजोल्यूशन एंड डिपॉजिट इंश्योरेंस (एफआरडीआई) बिल -2017 का मसौदा तैयार है। इसे इसी शीत सत्र में संसद में रखा जा सकता है और अगर ये बिल पास हो गया तो बैंकिंग व्यवस्था के साथ-साथ आपके लिए कई चीजें बदल जाएंगी।

अगर ये बिल पास हो गया तो जो भी बैंक दिवालिया होता है उस बैंक को आपका पैसा जब्त करने का पूरा अधिकार होगा और उस स्थिती में बैंक आपको आपका ही पैसा देने से इन्कार कर सकता है। इस तरह से बैंक को जो नुकसान हुआ है उससे उबरने में मदद मिलेगी। किसी भी बैंक, इंश्योरेंस कंपनी और अन्य वित्तीय संस्थानों के दिवालिया होने की स्थ‍िति में उसे इस संकट से उभारने के लिए यह कानून लाया जा रहा है।

1 लाख रुपये होंगे सुरक्षित

इस प्रस्तावित कानून में ‘बेल इन’ का एक प्रस्ताव दिया गया है। अगर इस प्रस्ताव को मौजूदा मसौदे के हिसाब से लागू कर दिया जाता है, तो बैंक में रखे आपके पैसों पर आपसे ज्यादा बैंक का अधिकार हो जाएगा, इससे बैंकों को एक खास अधिकार मिल जाएगा। बैंक अगर चाहें तो खराब वित्तीय स्थ‍िति का हवाला देकर आपके पैसे लौटाने से इनकार कर सकते हैं। इसके बदले वह आपको शेयर्स व अन्य प्रतिभूति दे सकते हैं।

लेकिन अगर आपके खाते में 5 लाख रुपये हैं और बैंक घाटे के दौर से गुजर रहा है तो उस स्थिती में आपको बैंक को आपको कम से कम 1 लाख रुपये देने होंगे। इसमें आपको मिलने वाला ब्याज भी शामिल होता है। यह गारंटी डिपॉजिट इंश्योरेंस एंड क्रेडिट गारंटी कॉरपोरेशन की तरफ से मिलती है। इसका  मतलब यह है कि जब कोई बैंक दिवालिया हो जाता है और वह जमाकर्ताओं के पैसे लौटाने में सक्षम नहीं होता, तो भी इस स्थ‍िति में उसे जमाकर्ताओं को 1 लाख रुपये तक की राशि देनी होगी।

loading...
शेयर करें

आपकी राय