मप्र में उपचुनाव जीतते ही कांग्रेस को लगा सबसे बड़ा झटका, बिहार की राजनीति में आया तूफान

0

पटना। अभी मप्र में उपचुनाव जीतने की खुशी कांग्रेस ने सही से मनाई भी नहीं थी कि पार्टी को बिहार से एक बड़ा झटका लगा है। बिहार कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष अशोक चौधरी की अगवाई में कांग्रेस के कुल छह एमएलसी में से चार एमएलसी ने कांग्रेस का साथ छोड़ दिया। साथ ही ये घोषणा भी कर दी कि वो सभी नीतीश कुमार की अगुवाई वाले जदयू का दामन थामेंगे।

इससे पहले मांझी ने एनडीए को कहा अलविदा

अशोक चौधरी के अलावा जिन एमएलसी ने कांग्रेस पार्टी छोड़ी है उनमें दिलीप चौधरी, रामचंद्र भारती और तनवीर अख्तर के नाम शामिल हैं। बता दें इससे पहले बुधवार को बीजेपी से खफा होकर बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा के अध्यक्ष जीतन राम मांझी ने एनडीए का साथ छोड़कर आरजेडी महागठबंधन में शामिल हो गए।

कांग्रेस ने पहले भी सबको बाहर का रास्ता दिखा दिया

हालांकि औपचारिक एलान के पहले कांग्रेस ने इन चारों बागी एमएलसी अशोक चौधरी, दिलीप चौधरी, तनवीर अख्तर और रामचंद्र भारती को पार्टी से बाहर को रास्ता दिखा दिया। कांग्रेस के बड़े नेताओं ने कहा है कि ये सभी जनाधार विहीन नेता है। इनके जाने से पार्टी पर कोई असर नहीं पड़ने वाला है। कांग्रेस के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष अशोक चौधरी काफी समय से पार्टी में घुटन महसूस कर रहे थे। वे समय- समय पर इसका इजहार भी करते थे।

क्या बोले अशोक चौधरी

अशोक चौधरी कांग्रेस के कद्दावर नेता रहे हैं। करीब 2 दशक तक कांग्रेस से जुड़े रहे। इनके पिता महावीर चौधरी कांग्रेस के बड़े नेता थे। अशोक चौधरी ने साफ किया कि उन्हें बार-बार पार्टी में अपमानित किया गया। पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष अशोक चौधरी ने पार्टी अध्यक्ष कौकब कादरी पर निशाना साधा और कहा कि उन्हें किसी का लालच नहीं है। मैंने अपनी अंतरात्मा की आवाज सुनी और पार्टी छोड़ने का फैसला किया।

loading...
शेयर करें