बीजेपी सरकार पर छाए संकट के बादल, सड़क पर उमड़ा किसानों का सैलाब

0

ठाणे। महाराष्ट्र में पूर्ण कर्ज माफी को लेकर किसानों का आंदोलन बीजेपी सरकार की मुश्किलें बढ़ा सकता है। ऑल इंडिया किसान सभा के अंतर्गत यह किसान शुक्रवार को ठाणे के शाहपुर पुहंच गए हैं। करीब 30 हजार की संख्या में मौजूद इन किसानों को देखकर ऐसा लगता है कि मानों सड़क पर लोगों का सैलाब उमड़ा आया हो। अपनी मांगों को लेकर किसानों का लक्ष्य 12 मार्च को मुंबई पहुंचकर विधानसभा का घेराव करना है। यह किसान अब मुंबई से केवल 73 किलोमीटर दूर हैं। किसान हर रोज करीब तीस किलोमीटर की पैदल यात्रा कर रहे हैं।

जानिए क्या हैं इन किसानों की मांगे

भारी संख्या में व पूरे परिवार के साथ मुंबई की तरफ मार्च कर रहे इन किसानों की मांग है कि सरकार उनका बिजली का बकाया बिल माफ करे। उनका कहना है कि किसानों का पूरा कर्ज माफ हो, फसलों की वाजिब कीमत मिले और स्वामीनाथन कमेटी की सिफारिशों को लागू किया जाए। यह किसान सरकार पर वादाखिलाफी का आरोप लगा रहे हैं।

सड़कों पर आक्रोशित किसानों की ये लंबी कतार लगातार बढ़ती जा रही है लेकिन अभी तक महाराष्ट्र सरकार ने इनकी किसी भी मांग पर विचार नहीं किया है। किसानों ने चेतावनी दी है कि अगर इनकी मांग पूरी नहीं की गई तो ये विधानसभा का अनिश्चितकालीन घेराव करेंगे।

ऑल इंडिया किसान सभा की मांग है कि सरकार सुपर हाइवे और बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट के लिए केंद्र सरकार किसानों की जमीन पर अधिग्रहण न करें। ऑल इंडिया किसान सभा के अजीत नवाले ने बताया कि हम पिछले 2 सालों से इन मांगों पर सरकार का ध्यान खींचने की कोशिश कर रहे थे लेकिन सरकार ने हर बार अनदेखी की जिसके बाद हमने ये मार्च निकाला है।

महाराष्ट्र में किसानों की कर्ज माफी एक बड़ा मुद्दा रहा है क्योंकि यहां देश भर में सबसे ज्यादा किसान आत्महत्या करते हैं। यही वजह रही कि राज्य की सत्तारुढ़ बीजेपी-शिवसेना की सरकार ने सत्ता में आने के साथ ही किसानों की कर्ज माफी का ऐलान किया था।

loading...
शेयर करें