राजस्‍थान में बीजेपी के लिए खड़ी हुई बड़ी मुसीबत, इस दिग्‍गज नेता ने बनाई नई पार्टी

0

नई दिल्‍ली। राजस्‍थान में इसी साल विधानसभा चुनाव होने हैं। इससे पहले आज यहां बीजेपी को एक जबरदस्‍त झटका लगा है। दरअसल यहां कई दिनों से पार्टी से नाराज चल रहे एक दिग्‍गज विधायक ने अपनी अलग राजनीतिक पार्टी बना ली है। विधायक ने अपने बेटे को पार्टी का अध्‍यक्ष बनाया है।

बीजेपी से नहीं दिया है इस्‍तीफा

बीजेपी से कई दिनों से नाराज चले आ रहे घनश्‍याम तिवारी ने आज ‘भारत वाहिनी पार्टी’ के नाम से अपनी अलग राजनीतिक पार्टी बना ली है। नई पार्टी के गठन के बाद घनश्‍याम तिवारी के बेटे और पार्टी के अध्‍यक्ष अखिलेश तिवारी ने बताया कि उन्‍हें चुनाव आय़ोग से निर्देश मिले हैं कि एक विज्ञापन जारी कर इस नाम पर आपत्ति मांगी जाए।

Also Read : बीजेपी ने इस राज्‍य में खुद कराया ये सर्वे, नतीजे देखकर मच गया हड़कंप

उन्‍होंने आगे बताया कि यदि पार्टी के नाम यानि भारत वाहिनी पार्टी पर किसी को आपत्ति होती है तो चुनाव आयोग पहले इस पर सुनवाई करेगा। लेकिन अगर इस नाम पर किसी तरह की आपत्ति नहीं आती है, तो चुनाव आयोग इसे राजनीतिक दल की मान्यता दे देगा।

Also Read : CBSE ने 16 लाख छात्रों को दी बड़ी राहत, दोबारा नहीं होगी 10वीं गणित की परीक्षा

खबरों के मुताबिक, विधायक घनश्‍याम तिवारी अपनी इस पार्टी से सीधे तौर पर नहीं जुडेंगे। दरअसल चुनाव आयोग के नियम के मुताबिक, किसी राजनीतिक दल का सदस्‍य जब तक उस पार्टी से इस्‍तीफा नहीं दे देता, तब तक वह दूसरी राजनीतिक पार्टी का सदस्‍य नहीं बन सकता है।

हालांकि नाराज विधायक घनश्‍याम तिवारी ने अभी तक बीजेपी से अपना इस्‍तीफा नहीं दिया है लेकिन वह कई मौकों पर प्रदेश संगठन और मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के खिलाफ खुलकर नाराजगी जाहिर कर चुके हैं। इस मामले में तिवारी को पार्टी ने अनुशासनहीनता का नोटिस भी जारी किया था।

Also Read : भारत बंद : मैं गिड़गिड़ाता रहा लेकिन उन्होंने एक न सुनी और मेरे पिता ने मेरी गोद में दम तोड़ दिया

आपको बता दें कि राजस्‍थान में इसी साल विधानसभा चुनाव हैं। हाल ही में राजस्‍थान में दो लोकसभा और एक विधानसभा सीट पर हुए उपचुनाव में बीजेपी को करारी शिकस्‍त झेलनी पड़ी थी। इस उपचुनाव में बीजेपी को मिली करारी हार पर भी घनश्याम तिवारी ने पार्टी के खिलाफ खुलकर बोला था। उस वक्त घनश्याम तिवारी ने कहा था कि लोगों ने राजे सरकार को हटाने के बजाए उसे और केंद्रीय नेतृत्व को दंडित किया है।

loading...
शेयर करें