अनोखी शादी : रथ पर सवार दुल्हन अपनी बारात लेकर पहुंची दूल्हे के द्वार

0

दानापुर। आप ने आम शादियां तो खूब देखी होंगी, जिसमें दूल्हा घोड़ी पर सवार होकर दुल्हन के घर बारात लेकर जाता है। लेकिन बिहार के मनेर में एक अनोखी शादी देखने को मिली, जहां दूल्हा नहीं बल्कि दुल्हन रथ पर सवार होकर बारात लेकर आई और दूल्हा उसका इंतेजार करता रहा। बैंड, बाजा और बाराती और उसमें नाचते लोग एक दुल्हन की बारात के गवाह बने।

अनोखी शादी

अनिल नेवी में कैप्टेन हैं

मनेर टोला पर निवासी नेवी सैनिक विनोद कुमार राय की मैनेजर बीटिया स्नेहा ने यह सब कर दिखाया। मुंबई के खुले माहौल में पली-बढ़ी स्नेहा की सगाई कोरैया के रहनेवाले अनिल कुमार यादव के साथ तय हुई, अनिल विशाखापट्टनम में नेवी कैप्टेन के रूप में पोस्टेड हैं। इसके बाद स्नेहा के माता-पिता सहित परिवार के सदस्यों ने अपने पैतृक घर मनेर टोला पर से करने का निर्णय लिया। स्नेहा मुंबई में एक निजी बैंक में असिस्टेंट मैनेजर के पद पर कार्यरत है।

बिना दहेज के हुई शादी

बताया जा रहा है कि दोनों परिवार ने आपसी रजामंदी से दुल्हन की बारात निकालने के इस नए रिवाज के साथ-साथ दहेज मुक्त समाज बनाने का मिसाल कायम किया। दुल्हन स्नेहा ने बताया कि दहेज मुक्त समाज बने उसके लिए दुल्हन की बारात निकालने की नई शुरुआत होनी चाहिए जिसे हमने स्थापित किया। दूल्हा बने अनिल ने बताया कि दोनों ने एक साथ पढाई की थी और फिर अब शादी कर रहे हैं।

क्या कहना है दुल्हन के पिता का

दुल्हन जब  अपनी बरात लेकर निकली, तो पूरे परिवार व सगे- संबंधी  गुलाबी- गुलाबी रंग की पगड़ी बांधे हुए थे। बरात को देखने के लिए आसपास के लोग भी जमा हो गये। स्नेहा के पिता विनोद कुमार का कहना है कि हमारी बेटियां पढ़ी लिखी होने के साथ जॉब में हैं और बेटों से किसी तरह कम नहीं हैं।

loading...
शेयर करें