फिल्म रिव्यू : अच्छे मेसेज़ की टॉपिंग के साथ बहुत टेस्टी है इस ‘शेफ’ की कहानी

0

फिल्म का नाम : शेफ

डायरेक्टर: राजा कृष्णा मेनन

स्टार कास्ट: सैफ अली खान, स्वर कांबले, पद्मप्रिया जानकीरमन, दिनेश प्रभाकर, चन्दन रॉय सान्याल

रेटिंग : 3

मुंबई। फिल्म की शुरुआत दिल्ली के चांदनी चौक के रहने वाले रोशन कालरा (सैफ अली खान) से होती है, जिसे बचपन से ही खाना बनाने की शौक होता है लेकिन उसके पिता को ये बात बिलकुल पसंद नहीं होती। एक दिन रोशन दिल्ली छोड़कर न्यूयॉर्क चला जाता है और वहां गली किचन नाम के एक  रेस्टॉरेंट में शेफ की नौकरी करने लगता। रोशन की पर्सनल लाइफ में भी कुछ ठीक नहीं चल रहा होता और उसका उसकी पत्नी राधा मेनन (पद्मप्रिया जानकीरमन) से तलाक हो जाता है। दोनों का एक बेटा भी होता है जिसका नाम अरमान (स्वर कांबले) है। अरमान अपनी मम्मी के साथ केरल में रहता है, जबकि रोशन न्यूयॉर्क में। उधर रोशन के साथ न्यूयॉर्क में कुछ ऐसा होता है जिसकी वजह से उसे वापस भारत आना पड़ता है और वो केरल जाकर अपने बेटे के साथ कुछ वक्त बिताता है।

इस दौरान रोशन बेटे संग मिलकर एक चलती वैन में किचन बनाता है और एक नये सिरे से अपना शेफ का काम शुरू करता है। इसी बीच कहानी में बीजू (मिलिंद सोमन) की एंट्री होती है और काफी सारे टविस्ट और टर्न्स आते हैं, जिसके लिए आपको सिनेमाघर तक जाना पड़ेगा।

डायरेक्शन

राजा कृष्णा मेनन का डायरेक्शन अच्छा है। फिल्म की कहानी साधारण है लेकिन इसमें एक अच्छा मेसेज छिपा हुआ है, जिससे आप आसानी से खुद को जोड़ सकते हैं। फिल्म का स्क्रीनप्ले बहुत अच्छी तरह से लिखा गया है। फिल्म में केरल, अमृतसर, दिल्ली को बहुत अच्छी तरह से दिखाया गया है। हालांकि फिल्म का क्लाइमेक्स भी प्रेडिक्ट किया जा सकता है, जिसे बदला जाता तो कहानी और सटीक हो जाती।

एक्टिंग

सैफ अली खान ने अच्छा काम किया है, कूल डैड के रोल को उन्होंने बखूबी निभाया है। साउथ की नामी एक्ट्रेस पद्मप्रिया ने भी अपने रोल के साथ न्याय किया है जबकि बेटे के रोल में स्वर कांबले का काम भी लाजवाब है। फिल्म में मिलिंद सोमन का रोल छोटा है लेकिन अच्छा है। बाकी कैरेक्टर्स ने भी अच्छा काम काम किया है।

म्यूजिक

फिल्म का म्यूजिक कुछ खास नहीं है, ‘शुगल लगा ले’ एक मात्र अच्छा गाना है। बैकग्राउंड स्कोर बढ़िया है जो कहानी से साथ सटीक बैठता है।

देखें या नहीं

पिता- पुत्र और पति- पत्नी दोनों के रिश्तों पर एक अच्छा मेसेज़ देती है ये फिल्म, एक बार इससे जरूर देखना चाहिए।

loading...
शेयर करें