अंदर ऐसा क्या हुआ कि योगी के ‘घर’ से रोते हुए निकला ये शख्स

0

गोरखपुर। सूबे के सीएम योगी आदित्यनाथ जनता दरबार में सबकी समस्याएं सुनते हैं और उसके निराकरण के लिए अधिकारियों को दिशा निर्देश भी देते हैं। लेकिन ऐसा पहली बार हुआ है जब कोई उनके जनता दरबार से रोते हुए निकला हो। जी हां, मंगलवार को गोरखपुर में लगे जनता दरबार में अपना दुखड़ा लेकर पहुंचा युवक जब रोते हुए बाहर आया तो सब हैरान रह गए।

जनता दरबार

वहां मौजूद मीडिया से बात करते हुए उसने अपना दर्द बयां किया। उसने आरोप लगाया कि वो यहां बाहुबली अमरमणि त्रिपाठी और उनके विधायक बेटे अमनमणि त्रिपाठी की शिकायत लेकर आया था। लेकिन सीएम उनका नाम सुनते ही  आग-बबूला हो गए और उसे धक्के देकर निकालवा दिया गया।      

अपनी बातों को विस्तार से बताते हुए पीड़ित आयुष सिंघल ने कहा कि राजधानी लखनऊ के चिनहट में उसकी 22 एकड़ जमीन है जिसपर अमरमणि और उनके बेटे अमनमणि ने कब्ज़ा कर लिया है। सपा के शासन काल में भी वो अपनी फरियाद लेकर सबके पास जाता रहा लेकिन उसकी नहीं सुनी गई।

बीजेपी सरकार बनने के बाद उसे न्याय की उम्मीद थी। इसी फरियाद को लेकर वो जनता दरबार में आता है। मंगलवार को तीसरी बार वो अपनी अर्जी लेकर सीएम से मिलने पहुंचा था। लेकिन उसे धक्के मारकर वहां से निकाल दिया गया। पीड़ित आयुष का आरोप है कि जब मैंने सीएम से अपनी बात कही तो वो नाराज हो गए। उन्होंने उसके कागजात जमीन पर फेंक कर कहा तुम्हारी कभी सुनवाई नहीं होगी।

आयुष ने बताया कि अपनी जमीन छुड़ाने के लिए वह कई अधिकारीयों से मिल चुके हैं। सीएम योगी ने पिछली मुलाकात के बाद खुद एसएसपी लखनऊ को कारवाई करने का आदेश दिया था लेकिन कोई करवाई नहीं हुई। जिसके बाद वह मंगलवार को गोरखपुर सीएम से मिलकर अपना हाल बताने गया था।

आयुष का आरोप है कि उसे उसकी जमीन पर भी नहीं जाने दिया जाता। अमनमणि के गुंडे आयुष और उसके परिवार को डराते और धमकाते हैं। इतना ही नहीं आयुष के घर पर भी कई बार हमले हो चुके हैं। आयुष का कहना था कि एक यही सहारा था अब हम कहां जायेंगे।

विपक्ष सरकार पर हमलावर

इस वाकये के बाद विपक्ष को एक बार फिर मौका मिल गया है सरकार पर हमला करने का। सपा एमएलसी सुनील सिंह साजन ने अपने फेसबुक पेज पर आयुष का विडियो शेयर करते हुए लिखा है कि योगीजी का रामराज्य कैसे गुंडाराज में तब्दील हो गया है, उसकी जीती जागती नजीर देखिये। राज्यसभा में वोट के बदले योगीजी ने विधायक अमनमणि त्रिपाठी को गुंडागर्दी का लाइसेंस दे दिया है। मुख्यमंत्री खुद जब जमीन कब्ज़ा कराएगा तो आप न्याय की उम्मीद किससे करेंगे! वहीँ बीजेपी सी बारे में कुछ भी बोलने से कतरा रही है।

loading...
शेयर करें