बर्फबारी का कहर… पनपतिया ग्लेशियर में फंसा पर्वतारोहियों का दल, एक की मौत

0

देहरादून। पश्चिम बंगाल से यहां ट्रेकिंग करने आये 23 सदस्यीय दल के मद्महेश्वर ट्रैक में फंसने की खबर सामने आई है। जानकारी के अनुसार इनमें से एक सदस्य की अधिक ठंड की वजह से मौत भी हो गई। फिलहाल अभी मौत के मुख्य कारण के बारे में कुछ भी कह पाना मुमकिन नहीं। कारण ठंड से मौत का केवल अंदाजा लगाया जा रहा है। टीम का कहना है कि मौत का सही कारण जांच के बाद ही सामने आएगा, लेकिन उस रूट पर अधिक बर्फ होने के कारण ठंड से मौत हुई है।

155 जवानों ने की भारतीय सेना में एंट्री, मुख्यमंत्री ने किया…

मद्महेश्वर ट्रैक

अन्य साथियों द्वारा इनके मृत शव सहित सजल सरोवर से आशिकी ताल तक ट्रैक किया गया है अन्य 19 सदस्य वहीं रुके हुए हैं। वहीं दो पर्वतारोही और दो पोर्टर थाना ऊखीमठ पहुंचने वाले हैं।

इसके लिए जिला पुलिस, स्थानीय प्रशासन व आपदा प्रबंधन के स्थानीय युवकों की एक टीम गठित कर मदमहेश्वर के लिए रवाना की गई है।

इस बार समय से पहले दस्तक देगा मानसून, मौसम विभाग का…

खबरों के मुताबिक़ गत पांच जून को पश्चिम बंगाल से 23 सदस्य दल मद्महेश्वर ट्रैक पर ट्रेकिंग के लिए आया था। जिसमें नौ पर्वतारोही, 12 पोर्टर और दो गाइड थे। जिसमें से 11 जून को 34 वर्षीय सीनियर इंजीनियर अरूण दास की मौत हो गई।

बता दें कि, पर्वतारोही लामबगड़ (जनपद चमोली) खीरों नदी से पैदल ट्रैकिंग करते हुए रुद्रप्रयाग के पनपतिया ग्लेशियर में फंस गये थे।

मंगलवार देर रात उत्तराखंड पुलिस को दिल्ली मुख्यालय की ओर से पर्वतारोहियों के फंसे होने की सूचना मिल थी। जिसके बाद सुबह एसडीआरएफ की टीम उनके रेस्क्यू के लिए रवाना हो गई थी।

loading...
शेयर करें