आंबेडकर जयंती पर सीएम योगी को मिलेगा दलितों का सबसे बड़ा सम्मान, सुरक्षा के कड़े बंदोबस्त

0

लखनऊ। जहां एक तरफ दलितों का सरकार के विरुद्ध आन्दोलन शुरू है वहीं शनिवार (14 अप्रैल) को आंबेडकर महासभा यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ को दलित मित्र सम्मान से सम्मानित करेगी। सीएम योगी को यह सम्मान बाबा साहब भीमराव रामजी आंबेडकर की जयंती पर दिया जाएगा। आपकों बता दें कि आंबेडकर महासभा पहली बार किसी को दलित मित्र सम्मान से सम्मानित कर रही।    दलित मित्र

आज बाबा साहब की जयंती पूरे देश में मनाई जा रही है। वहीं यूपी में भी कई कार्यक्राम आयोजित किये जाने हैं। इसके लिए सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी गई है। सभी जिलाधिकारियों और पुलिस अधीक्षकों को सुरक्षा व्यवस्था कड़ी रखने के आदेश दिए गए हैं ताकि कोई अप्रिय घटना न हो सके। वहीं मेरठ में रात 8 बजे तक इंटरनेट सेवा बंद कर दी है।

सीएम योगी को दलित मित्र अवार्ड देने का विरोध 

आपको बता दें कि अम्बेडकर सभा के अध्यक्ष लालजी प्रसाद निर्मल के इस आदेश का महासभा के दो वरिष्ठ सदस्य हरीश चंद्र और एसआर दारापुरी ने विरोध किया था। उनका कहना है कि महासभा के अध्यक्ष लालजी प्रसाद निर्मल ने ये फैसला अपने राजनीतिक फायदे के लिए किया है।

हरीश चंद्र ने कहा था कि इस महासभा का गठन अंबेडकर के विचारों को जन-जन तक पहुंचाने के लिए किया गया है न की किसी फायदे के लिए। उनका आरोप है कि निर्मल राजनीतिक लाभ लेना चाहते हैं जिसकी वजह से उन्होंने ये सब किया है।

महासभा की दलील 

वहीँ निर्मंल ने इन आरोपों को ख़ारिज करते हुए कहा कि सीएम योगी को ‘दलित मित्र’ अवॉर्ड’ देने में कुछ भी गलत नहीं है, क्योंकि वो उत्तर प्रदेश में रहने वाले सभी लोगों के मित्र हैं। वो दलितों के भी मित्र हैं। योगी सरकार ने हर दफ्तर और पुलिस स्टेशन में बाबा साहब की तस्वीर लगाने का आदेश दिया और दलित, पिछड़ों के लिए विधानसभा में आरक्षण का ऐलान किया। 1998 में अंबेडकर महासभा की स्थापना की गई थी।

जयंती पर सुरक्षा व्यवस्था कड़ी

आंबेडकर जयंती के मौके पर कोई हिंसा न हो, इसलिए डीजीपी मुख्यालय की तरफ से पूरे प्रदेश में पुलिस प्रशासन को अलर्ट किया गया है। पश्चिमी जिलों के कई संवेदनशील इलाकों में पुलिस फ़ोर्स तैनात किया गया है। वहीँ जहां जहां कार्यक्रम हो रहे हैं वहां वहां सुरक्षा के खास बंदोबस्त करने के निर्देश दिए गए हैं।

वहीं मुजफ्फरनगर में भी संवेदनशीलता को देखते हुए 2 कंपनी पीएसी, 1 कंपनी आरएएफ  के साथ 2 हजार पुलिस कर्मियों और अधिकारियों की ड्यूटी लगाई गई है। साथ ही ड्रोन कैमरों से हर तरफ नजर रखी जा रही है।

loading...
शेयर करें