आगरा, फिरोजाबाद में तिरंगा यात्रा को लेकर फिर हुआ विवाद, प्रशासन के हाथ-पांव फूले

0

नई दिल्ली। बीते दिनों कासगंज में भड़की हिंसा की आग थमने का नाम नहीं ले रही है। मामले को लगातार राजनीतिक तूल दिया जा रहा है। इसी कड़ी में आज आगरा व फिरोजाबाद में तिरंगा यात्राएं निकाली गई। ये यात्राएं विश्व हिंदू परिषद व बजरंग दल के कार्यकर्ताओं द्वारा निकाली गई। यात्राओं की जानकारी मिलते ही प्रशासन के हाथ-पांव फूल गए।

आनन-फानन में आला अधिकारियों ने मौके पर पहुंचकर इन शहरों में धारा 144 लगे होने का हवाला देते हुए तिरंगा रैली को रोक दिया। पुलिस ने बिना अनुमति निकाली जा रही इन रैलियों को रोकने के साथ-साथ प्रदर्शनकारियों से ज्ञापन ले लिया है। इन रैलियों में तिरंगा लहराने के अलावा जय श्री राम व वंदे मातरम के नारे लगाए गए।

कासगंज हिंसा में मारे गए युवक चंदन को श्रद्धांजलि देने के लिए निकाली गई ये रैलियां

बीते दिनों कासगंज में हुई हिंसा में चंदन नाम के युवक की मौत हो गई थी। जिस पर प्रदेश की सियासत गर्म हो चुकी है। आगरा व फिरोजाबाद में आज बजरंग दल व विहिप द्वारा चंदन को श्रद्धांजलि देने के लिए रैलियां निकाली गई। इससे पहले मंगलवार को एबीवीपी द्वारा मेरठ में कैंडल मार्च व तिरंगा यात्रा निकालकर मृतक चंदन को श्रद्धांजलि अर्पित की गई थी।

कासगंज हिंसा पर योगी सरकार अपना रही कड़ा रवैया

कासगंज हिंसा के बाद योगी सरकार ने सख्त रुख अपनाया है। कासगंज हिंसा के आरोपियों की संपत्ति की कुर्की करने के आदेश जारी कर दिये गये हैं। मंगलवार को मामले में फरार चल रहे तीन मुख्य अभियुक्तों समेत 12 आरोपियों के घर पर संपत्ति की कुर्की का नोटिस चस्पा कर दिया गया। हिंसा के बाद करीब 100 से अधिक लोगों को अब तक गिरफ्तार किया जा चुका है।

loading...
शेयर करें