रक्षा मंत्री ने आतंकी हमले को लेकर दिया बड़ा बयान, पाक को उसी की भाषा में जवाब देंगे

0

जम्मू। रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने पाकिस्तान द्वारा किए जा रहे हमलों पर बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा कि पाक को उसी की भाषा में जवाब दिया जाएगा। सीतारमण सोमवार शाम हालातों का जायजा लेने शुंजवां पहुंची। बीते दिनों यहां पाक ने हमला किया था।

सीतारमण ने प्रेस कांफ्रेस करते हुए कहा कि हमले में पाकिस्तान का हाथ है। उसके खिलाफ सारे सबूत इकठ्ठा कर लिए गए हैं। उन्होंने कहा कि हमले का जिम्मेदार जैश-ए-मोहम्मद का चीफ अजहर मसूद है, जिसे पाक का समर्थन हासिल है। इस बार पाक को मुंहतोड़ जवाब दिया जाएगा। देश के जवानों की शहादत वो बेकार नहीं जाने देंगी।

भारत के सख्त रुख से डरा पाक, बोला इस बार सर्जिकल स्ट्राइक जैसी कार्रवाई न करे भारत

भारत के सख्त रुख को देखते हुए पाकिस्तान में हलचल मची हुई है। पाक इस बात से डरा हुआ है कि कहीं भारत फिर से उस पर सर्जिकल स्ट्राइक न कर दे। पाक ने भारत को चेतावनी देते हुए कहा है कि वह सीमा पार सर्जिकल स्ट्राइक जैसी कार्रवाई के बारे में न सोचे।

पाकिस्तानी विदेश मंत्रालय ने सोमवार को बयान जारी करते हुए कहा कि जब भी ऐसी घटना होती है, भारत जांच-पड़ताल पूरी किए बिना पाकिस्तान पर आरोप लगा देता है। पाकिस्तान के मुताबिक भारत का यह रुख कश्मीर में मानवाधिकार उल्लंघन के मामलों से ध्यान भटकाने की साजिश है।

रक्षा मंत्री ने की महबूबा मुफ्ती से मुलाकात

निर्मला सीतारमण ने हमले को लेकर जम्मू कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती से मुलाकात की। इस मुलाकात के बारे में बताते हुए उन्होंने कहा कि मुफ्ती भी इस तरह के हमलों से काफी दुखी व परेशान हैं। इससे पहले, जम्मू-कश्मीर की सीएम महबूबा मुफ्ती ने रक्षामंत्री को राज्य के ताजा हालातों की जानकारी दी। रक्षामंत्री ने सेना के उच्च अधिकारियों के साथ भी एक मीटिंग की। उन्होंने कहा कि राज्य की पुलिस और सेना एक साथ काम कर रहे हैं।

हमले से संबंधित सबूत इकठ्ठा कर पाक को दिए जाएंगे

रक्षा मंत्री ने कहा कि इस आतंकी हमले से संबंधित सभी सबूत इकट्ठा कर लिए गए हैं। निश्चित रूप से उन्हें पाकिस्तान को दिया जाएगा। इससे पहले भी सबूत देने के बाद भी पाकिस्तान ने कोई कार्रवाई नहीं की है।

उन्होंने कहा कि खूफिया जानकारी से पता चला है कि आतंकवादियों को सीमा के उस पार से नियंत्रित किया जा रहा था। उन्होंने हमले के बारे में बताया कि आतंकी सेना की वर्दी में आए थे।

आतंकियों ने सेना के परिवार के ठिकानों को निशाना बनाने की कोशिश की थी। रक्षा मंत्री ने कहा कि तीन हमलावर मारे गए हैं। कैंप की सभी 36 बैरकों में जांच अभियान चलाया जा रहा है। रक्षा मंत्री सेना के शुंजवां शिविर पर आतंकी हमले में घायल लोगों से मिलने सेना के अस्पताल भी गयी।

loading...
शेयर करें