स्कूली बच्चों की मौत को लेकर बिहार विधानसभा में हुआ जमकर हंगामा

0

पटना। बिहार में आज  विधानसभा में कुछ और ही नजारा देखने को मिला। यहां विपक्षी राजद और कांग्रेस सदस्यों ने मंगलवार को भाजपा नेता मनोज बैठा की गिरफ्तारी की मांग को लेकर प्रदर्शन किया। बैठा की कार मुजफ्फरपुर जिले में शनिवार को नौ स्कूली बच्चों की कुचलने वाली घटना में कथित रूप से शामिल थी। विधानसभा में विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और उनकी सरकार पर बैठा को संरक्षण देने का आरोप लगाया और गिरफ्तारी में देरी होने के लिए राज्य विधानसभा में चर्चा की मांग की।

इस बीच, विपक्ष के हो-हल्ले के बीच सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने बैठा को प्राथमिक सदस्यता से छह साल के लिए बर्खास्त कर दिया है। राष्ट्रीय जनता दल (राजद) समेत विपक्षी दलों ने सोमवार को भाजपा नेता की जल्द गिरफ्तारी न होने पर राज्यभर में विरोध प्रदर्शन शुरू करने की चेतावनी दी। उन्होंने मामले की न्यायिक जांच की भी मांग की है, ताकि यह पता चल सके कि बिहार में शराबबंदी लागू होने के बावजूद घटना के वक्त अपनी कार में बैठे बैठा ने शराब पी रखी थी या नहीं।

तेजस्वी यादव ने शनिवार को कहा था कि उस कार पर भाजपा का बोर्ड लगा हुआ था और घटना के वक्त चालक नशे में चूर था। भाजपा नेता सत्ता के नशे में पूरी तरह से डूबे हुए हैं। पुलिस का कहना है कि घटना के वक्त बैठा वाहन में था, लेकिन घटना के बाद वह अपने चालक के साथ भागकर कहीं छिप गया। बैठा को गिरफ्तार करने के लिए छापेमारी की जा रही है।

मोहम्मद अंसारी के बयान पर बैठक  के खिलाफ सोमवार को प्रार्थ दर्ज कर ली गई थी। इस दुर्घटना में अंसारी के पांच पोतों की मौत हुई है। गुस्साए ग्रामीणों ने रविवार को बैठा की गिरफ्तारी की मांग को लेकर राष्ट्रीय राजमार्ग 77 को जाम कर दिया था। धर्मपुर गांव के निवासी अंसारी ने पुलिस को बताया कि बच्चों को कुचलते वक्त बैठा ही वाहन चला रहा था।

loading...
शेयर करें