करे मां के नौ रूपों की आराधना, जानिए कब से शुरू हैं चैत्र नवरात्रि

0

हिन्दू पंचांग के अनुसार वर्षभर में दो बार नवरात्रि का त्योहार मनाया जाता है। चैत्र मास की नवरात्रि को चैत्र नवरात्रि और शरद ऋतु में आने वाली नवरात्रि को शारदीय नवरात्रि के नाम से जाना जाता है। दोनों ही नवरात्रि में दुर्गा के नौ स्वरूपों का पूजन किया जाता है। 2018 में चैत्र नवरात्रि की शुरुआत 18 मार्च से होने जा रही है। नवरात्रि के दौरान जहां एक तरफ मां के नौ रुपों की पूजा की जाती है वहीं चैत्र माह के नवरात्रों में मां की पूजा के साथ अपने कुल देवी-देवताओं की पूजा का विधान भी होता है। नवरात्रि के पहले दिन कलश स्थापना यानि घट स्थापना के साथ नवरात्रि की शुरुआत हो जाती है। इन नौ दिनों में हर एक दिन माता के एक रूप की पूजा की जाती है।

पहला नवरात्र 18 मार्च को हैं। नवरात्रि के पहले दिन कलश स्थापना की जाती है और माता के पहले स्वरुप मां शैलपुत्री की पूजा की जाती है।

दूसरा नवरात्र 19 मार्च को हैं। नवरात्रि के दूसरे दिन माता ब्रह्राचारिणी की आराधना की जाती है।

तीसरा नवरात्र 20 मार्च को हैं। तीसरे दिन देवी दुर्गा के चन्द्रघंटा रूप की पूजा होती है।

चौथा नवरात्र 21 मार्च को हैं। नवरात्रि के चौथे दिन माता के कूष्मांडा स्वरूप की उपासना की जाएगी।

पांचवा नवरात्र 22 मार्च को हैं। नवरात्रि के पांचवे दिन माता स्कंदमाता की पूजा की जाएगी।

छठा नवरात्र 23 मार्च को हैं। छठे दिन माता कात्यायनी की पूजा की जाएगी।

सातवा व आठवा नवरात्र 24 मार्च को हैं। नवरात्रि का सातवां दिन मां कालरात्रि की आराधना की जाएगी। 24 मार्च को सप्तमी के साथ अष्टमी की तिथि भी पड़ेगी इस दिन महागौरी की पूजा की जाएगी। अष्टमी और नवमी तिथि पर कन्या पूजन भी होगा।

नौवा नवरात्र 25 मार्च को हैं। नौवें दिन माता के सिद्धिदात्री स्वरुप की पूजा की जाएगी और इसी के साथ नवरात्रि की पूजा का अनुष्ठान पूरा हो जाएगा। इसी दिन राम नवमी भी मनाई जाएगी।

दसवा नवरात्र 26 मार्च को हैं। दशमी तिथि पर नवरात्रि के व्रत का पारण किया जाएगा।

loading...
शेयर करें