पूरी नहीं हुई डिपोर्टेशन मामले में बहस, भगोड़े माल्‍या को मिली 2 अप्रैल तक जमानत 

0

लंदन। भारत में धोखाधड़ी और भगोड़ा अपराधी करार दिए गए शराब कारोबारी विजय माल्या को लंदन की अदालत में डिपोर्टेशन की सुनवाई के लिए पेश किया गया था। लेकिन इसका कोई भी नतीजा नहीं निकला है। ऐसे में प्रत्यर्पण के संबंध में मामला फिर आगे बढ़ गया। क्‍योंकि बचाव पक्ष की तरफ से दलीलें पूरी नहीं की जा सकीं।

विजय माल्या

बता दें, विजय माल्‍या को लंदन की वेस्टमिनिस्टर मजिस्ट्रेट अदालत में एक बार फिर पेश होना पड़ा था क्‍योंकि भारत सरकार के सबूतों के खिलाफ़ बचाव पक्ष अपनी दलीलें पेश करना चाहता था। वहीं इस मामले में अंतिम सुनवाइयों में एक सुनवाई होने की संभावना थी लेकिन ऐसा नहीं हो सका। बचाव पक्ष को अपनी दलीलें पेश करने को मौका नहीं मिल पाया।

हालांकि अब अगली सुनवाई कब होगी इसकी डेट अभी फाइनल नहीं की गई है। लेकिन माना जा रहा है कि अगले तीन हफ्तों के अंदर अगली सुनवाई की डेट फाइनल की जा सकती है। इस मामले में प्रोसिक्यूशन यानी भारत सरकार की ओर से क्राउन प्रोसिक्यूशन सर्विस (CPS) का पक्ष रखना बाकी है।

दरअसल, इस मामाले में और इसके जैसे जैसे कई अन्य मामलों को लेकर भारत और ब्रिटेन एक एओयू साइन करने वाले हैं। ऐसा करने के बाद प्रत्यर्यपण के नियम बदल जाएंगे। इस तरह से ऐसे लेगों को डिपोर्ट करने में आसानी हो जाएगी।

loading...
शेयर करें