अन्नदाताओं के आन्दोलन के आगे फडणवीस सरकार ने टेके घुटने, मान ली मांगे, वापस लौटे किसान

0

मुंबई: महाराष्ट्र के किसानों द्वारा सत्तारूढ़ भाजपा सरकार के खिलाफ छेड़ी गई मुहिम रंग लाती नजर आ रही है। दरअसल, सूबे के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने किसानों की मांगों को मान लिया है। दरअसल, देवेंद्र फडणवीस सरकार ने किसानों के प्रतिनिधिमंडल के साथ बातचीत कर उनकी मांगों को मान लिया है, जिसके बाद किसानों ने अपना आन्दोलन समाप्त कर लिया है।

इस बारे में जानकारी देते हुए महाराष्ट्र सरकार के मंत्री चंद्रकांत पाटिल ने बताया कि सरकार ने लिखित रूप में अपनी स्‍वीकृति दे दी है। सीएम फडणवीस ने कहा कि मुख्‍य सचिव इसमें आगे की प्रक्रिया की देखरेख करेंगे।

आपको बता दें कि महाराष्ट्र के किसानों ने अपनी मांगों को लेकर महाराष्ट्र सरकार के खिलाफ आन्दोलन छेड़ रखा था। किसानों की मांग है कि उन्हें कृषि उपज की लागत मूल्य के अलावा 50 प्रतिशत लाभ दिया जाए। इसके अलावा सभी किसानों के कर्ज माफ किए जाएं। वो चाहते हैं कि नदी जोड़ योजना के तहत महाराष्ट्र के किसानों को पानी दिया जाए।

उनका कहना है कि वन्य जमीन पर पीढ़ियों से खेती करते आ रहे किसानों को जमीन का मालिकाना हक दिया जाए। इसके अलावा संजय गांधी निराधार योजना का लाभ उन्हें दिया जाए। उनकी सहायता राशि 600 रुपये प्रतिमाह से बढ़ाकर 3000 रुपये प्रति माह की जाए। किसानों की मांग है कि स्वामीनाथन आयोग की सिफारिशों को लागू किया जाए।

किसानों का मानना है कि सरकार उनके विकास के लिए प्रभावी नीतियां बनाने में असफल रही है। किसानों का कहना है कि सरकार को हाईवे और बुलेट ट्रेन जैसे विकास कार्यों के नाम पर किसानों की जमीन हड़पना बंद करना चाहिए।

इस बीच किसानों को अन्य दलों का राजनीतिक समर्थन भी मिला। रविवार को जहां शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे के बेटे आदित्य ठाकरे ने किसानों से मुलाकात कर उन्हें अपना समर्थन दिया। वहीं महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (मनसे) ने भी उन्हें इस आंदोलन को अपना समर्थन दिया है। उधर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी ट्विटर के माध्यम से केंद्र और महाराष्ट्र सरकार से किसानों की मांगे पूरी करने की अपील की थी।

इसके अलावा एनसीपी चीफ शरद पवार ने तो पार्टी के प्रदेशाध्यक्ष सुनील तटकरे और विधान परिषद में नेता विपक्ष धनंजय मुंडे को पार्टी की तरफ से मोर्चे में शामिल होने को कहा। कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अशोक चव्हाण और शेकाप के जयंत पाटील ने किसानों को समर्थन देने की घोषणा की थी।

loading...
शेयर करें