फिल्म रिव्यू : बोल्ड सीन्स की भरमार, फिर भी आपको पसंद नहीं आएगी ‘जूली 2’

0

फिल्म का नाम : जूली 2

स्टार कास्ट : राय लक्ष्मी, रवि किशन, आदित्य श्रीवास्तव, पंकज त्रिपाठी, रति अग्निहोत्री

डायरेक्टर : दीपक शिवदसानी

रेटिंग : 1

मुंबई। ये कहानी है एक नाजायज़ लड़की जूली (राय लक्ष्मी) की, जिसका इस दुनिया में कोई ठिकाना नहीं होता। जूली को एक्ट्रेस बनने का शौक होता है, जिसके लिए वो एक्टिंग क्लासेस भी ज्वॉइन करती हैं। इसके बाद जूली का स्ट्रगल शुरु होता है, वो काम की तलाश में इधर-उधर भटकती हैं। इस दौरान जूली की जिंदगी में कई उतार-चढ़ाव आते हैं और बहुत कॉम्प्रोमाइज करने के बाद उन्हें काम मिलता है।इस बीच एक दिन जूली के साथ एक बड़ा हादसा होता है उन्हें गोली लग जाती है। इस एक्सीडेंट की वजह से वे आईसीयू में पहुंच जाती हैं। जिस वक्त जूली हॉस्पिटल में भर्ती होती हैं उनके फ्लैशबैक में कई किस्से और लाइफ से जुड़े राज फिल्म में दिखाए जाते हैं। तो क्या जिंदगी और मौत की जंग लड़ रही जूली बच पाती है? ये जानने के लिए आपको सिनेमाघर तक जाना पड़ेगा।

निर्देशन

फिल्म का डायरेक्शन कुछ खास नहीं है, कहानी की स्पीड बेहद स्लो है जो 21वीं सदी के हिसाब से फिट नहीं बैठती। डायलॉग्स भी काफी घिसे- पिटे से हैं। फिल्म में सिर्फ बोल्ड सीन्स की भरमार है, लेकिन वो भी आपको एक वक्त के बाद बोरिंग लगने लगते हैं। फिल्म में काफी और काम करने की जरूरत थी।

एक्टिंग

फिल्म में राय लक्ष्मी की एक्टिंग ठीक-ठाक है। जैसा कि ये हिन्दी में उनकी पहली फिल्म में है इसकी डबिंग काफी गड़बड़ है जो ऑडियंस के डिसकनेक्ट करती है। बाकी कैरेक्टर का काम ओके है एक्टिंग के नजरिए से फिल्म पर बहुत काम करने की जरूरत है। हालांकि फिल्म में पंकज त्रिपाठी और रवि किशन का काम अच्छा है।

म्यूजिक

फिल्म का म्यूजिक भी कहानी की तरह घिसा-पिटा है। ऐसा कोई गाना नहीं है जो आप एक से ज्यादा बार झेल पाएं।

देखें या नहीं

इस फिल्म को देखने में अपना वक्त और पैसा बर्बाद न करें। इसकी बजाए कोई दूसरी फिल्म देख लें।

loading...
शेयर करें