कई सालों बाद खुला मौत का राज़, गुजरात के सीएम की पाकिस्तान ने की थी हत्या

0

अदमदाबाद। जैसे-जैसे गुजरात चुनाव की तारीख नजदीक आ रही है, वैसे-वैसे सियासी पार्टियों की सोशल मीडिया टीमें नए-नए तरीकों से युवाओं को अपनी तरफ आकर्षित करने में जुटीं हैं। कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी तीन दिनों की गुजरात यात्रा पर हैं। वह इस बार कांग्रेस को सत्ता में वापस लाने में जुटे हुए हैं। वहीं, पीएम मोदी भी अपना गढ़ बचाने की पूरी कोशिश कर रहे हैं। कांग्रेस ने इसी के तहत ट्विटर पर #नो_योर_लेगेसी नाम से एक प्रश्नमाला की सीरीज शुरू की है, जिसका मकसद राज्यवासियों को गुजरात के विकास में कांग्रेस के योगदान की याद ताजा कराना है।

बलवंत राय मेहता को पंचायती राज का वास्तुकार बताया है

इसी सीरीज में कांग्रेस ने पिछले दिनों एक सवाल पूछा, गुजरात के कौन से पूर्व मुख्यमंत्री को भारत में पंचायती राज का वास्तुकार कहा जाता है? इसके लिए चार ऑप्शन दिए गए हैं। आनंदीबेन पटेल, केशूभाई पटेल, नरेंद्र मोदी और बलवंत राय मेहता। जवाब देने वालों में 43 फीसदी लोगों ने सही जवाब दिया है। उनलोगों ने बलवंत राय मेहता को पंचायती राज का वास्तुकार बताया है।

सीएम सहित 8 लोगों की मौत हो गई थी

गुजरात के पूर्व सीएम बलवंत राय के विमान को पाकिस्तान के फाइटर प्लेन ने निशाना बना दिया था। जिसमें सीएम सहित 8 लोगों की मौत हो गई थी। ये तब कि बात जब भारत और पाकिस्तान का युद्ध चल रहा था। बता दें कि बलवंत राय मेहता अब तक देश के पहले और आखिरी ऐसे मुख्यमंत्री रहे हैं जिनकी हत्या दुश्मन देश ने की थी।

मेहता जून 1963 से लेकर सितंबर 1965 तक गुजरात के सीएम थे

मेहता जून 1963 से लेकर सितंबर 1965 तक गुजरात के सीएम थे। बलवंत राय मेहता को लोकतांत्रिक विकेंद्रीकरण की दिशा में उनके योगदान के लिए उन्हें पंचायती राज का वास्तुकार माना जाता है। बलवंत राय मेहता मुख्यमंत्री रहते हुए ही दुश्मन के विमान द्वारा किए गए हमले में मारे गए थे। जिस वक्त भारत और पाकिस्तान के बीच युद्ध की स्थिति बनी हुई थी उसी वक्त पाकिस्तान की सीमा के पास सीएम के विमान को दुश्मन के फाइटर प्लेन ने निशाना बना कर उड़ा दिया था। पाकिस्तान की इस कायराना हरकत में 8 लोगों की मौत हुई थी।

पाकिस्तान ने मांगी माफी

दरअसल, 19 सितंबर 1965 को तत्कालीन सीएम बलवंत राय मेहता राज्य के कच्छ के दौरे पर थे। मेहता के साथ उनकी पत्नी सरोज बेन, स्टाफ के तीन सदस्य, एक पत्रकार और दो क्रू मेंबर भी शामिल थे। उधर, 46 साल बाद पाकिस्तानी फाइटर एयरक्राफ्ट के पायलट हुसैन ने मेहता के हेलिकॉप्टर बीचक्राफ्ट के पायलट की बेटी को पत्र लिखकर माफी मांगी। पायलट की बेटी ने भी पत्र का जवाब दिया और पिता के हत्यारे को माफ कर दिया।

loading...
शेयर करें

आपकी राय