सुप्रीम कोर्ट के चार जजों ने पहली बार की प्रेस कांफ्रेंस, बताया सबकुछ ठीक नही

0

नई दिल्‍ली। पहली बार एक अभूतपूर्व घटनाक्रम को लेकर सुप्रीम कोर्ट के चार जज मीडिया कर्मी के सामने आए। इस दौरान शीर्ष अदालत के दूसरे सबसे वरिष्ठ न्यायाधीश जस्टिस चेलामेश्वर के साथ न्यायमूर्ति मदन बी लोकुर, न्यायमूर्ति रंजन गोगोई और न्यायमूर्ति कुरियन जोसेफ भी शामिल रहे।

मीडिया में आई खबरों के मुताबिक शीष अदालत के वर्तमान चार जज के अचानक आयोजित इस प्रेस कांफ्रेंस में न्यायमूर्ति चेलमेश्वर ने कहा कि वह उच्‍चतम न्‍यायालय के प्रशासकीय कमियों से संबंधित शिकायत का हल नही निकल पाने के कारण ऐसा कर रहे हैं। अपने इस कदम से हम देश की जनता के सामने अपनी स्थिति रख रहे हैं।

एक ऑनलाइन पोर्टल के अनुसार मीडिया को संबोधित करते हुए न्यायमूर्ति चेलमेश्वर ने कहा कि ‘हम चार न्यायाधीशों ने तमाम प्रशासकीय खामियों का हवाला देकर मुख्य न्यायाधीश से मुलाकात की थी, लेकिन उन्हें वहां से कोई समाधान न मिल पाने की स्थिति में देश को वस्तुस्थिति से अवगत कराने के लिए मीडिया का सहारा लेना पड़ा है।’ साथ ही इस समय उच्‍चतम न्‍यायालय का प्रशासन अस्त-व्यस्त है। इसलिए जब तक उच्चतम न्यायालय को संरक्षित नहीं किया जाता तब तक लोकतंत्र सुरक्षित नहीं रह सकता।’

वर्तमान में कार्यरत जजों के प्रेस कांफ्रेंस के बाद केंद्र सरकार हिल गई है। बताया जा रहा है कि इस मामले को गंभीरता से लेते हुए पीएम मोदी ने तुरंत कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद और राज्य मंत्री पीपी चौधरी से इस मुद्दे पर मुलाकात की है। वहीं खबर आई थी की देश चीफ जस्टिस भी प्रेस कांफ्रेंस करेंगे। लेकिन अब बताया जा रहा है कि ऐसा नहीं होगा।

loading...
शेयर करें