चल गया पता, इस जीन की वजह से बाल होने लगते हैं सफ़ेद

0

नई दिल्ली। कहते हैं कि उम्र का एक ऐसा पड़ाव आता है जहां लोगों के बाल सफ़ेद होने शुरू हो जाते हैं। कई बार ऐसा देखा गया है कि जब भुत कम ही उम्र से लोगों के बाल सफ़ेद होने लगते हैं। हालांकि ऐसा क्यों होता है यह बात आज तक नहीं पता चल पायी। लेकिन, हाल ही में वैज्ञानिकों ने इस रहस्य से भी पर्दा उठा दिया है।

यह भी पढ़ें, नासा का दावा, प्लैनेट नाइन है सौर मंडल का नौवां ग्रह

बाल होने लगते हैं सफ़ेद

दरअसल, बाल सफ़ेद होते हैं यह तो सब जानते हैं। लेकिन, इनके पीछे का कारण क्या होता है इसकी खोज वैज्ञानिकों ने कर ली है। पहली बार उन्होंने उस जीन को खोज निकाला है जिसकी वजह से बाल सफ़ेद होते हैं।

बता दें, वैज्ञानिकों ने पांच लैटिन अमेरिकी देशों के 6300 लोगों के डीएनए को इस अध्ययन में शामिल किया। इसके जरिए उस जीन का पता लगाने की कोशिश की गई थी जिसके चलते किसी व्यक्ति के बाल सफेद होते हैं। आईआरएफ4 नाम का यह जीन मेलेनिन को रोकने का काम करता है जिसकी वजह से बालों, त्वचा और यहां तक कि आंखों को भी रंग मिलता है।

यूनिवर्सिटी कॉलेज औफ लंदन के एंड्रेस रूइज लिनारेस भी इसी शोध टीम का हिस्सा हैं। उन्होंने नेचर कम्यूनिकेशन नाम की एक पत्रिका में बताया कि लोगों में एक ख़ास प्रकार का जीन होता है जिसके चलते बाल सफ़ेद हो जाते हैं। उन्होंने यह भी बताया कि जीन के अलावा तनाव, सदमा जैसी चीजें भी बालों को सफ़ेद करने का एक मुख्य कारण है।

लिनारेस ने कहा कि ”​अगर किसी दवा के जरिए मेलेनिन के उत्पादन को सुचारू किया जा सके तो इससे सफेद बालों को रंगने की जरूरत नहीं रह जाएगी। निश्चित रूप से इस दिशा में शोध को आगे बढ़ाने लायक अवसर मिला है।” उन्होंने यह भी बताया कि यूरोप में रहने वाले लोगों के बाल औरों की तुलना में जल्दी सफ़ेद होते हैं

loading...
शेयर करें

आपकी राय