सरकार ने किया पीएम रिसर्च फेलोशिप का ऐलान, छात्रों को मिलेंगे 70 हजार रुपए हर महीने

0

नई दिल्ली। देश में उच्च शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए सरकार ने अब तक की सबसे महंगी स्कॉलरशिप का ऐलान किया है। जिसके तहत रिसर्च करने वाले छात्रों को 70,000 से 80,000 रुपए तक की फेलोशिप दी जाएगी। इस फैसले से देश के होनहार युवाओं के विदेश जाकर रिसर्च करने में कमी आएगी। केंद्रीय कैबिनेट ने पीएम रिसर्च फेलोशिप के नाम से इसकी घोषणा की है। इसका फायदा आईआईटी, एनआईटी व आईआईएसआर जैसे संस्थानों में पढ़ने वालों छात्रों को मिलेगा।

तीन सालों की अवधि के लिए 1,650 करोड़ रुपए का फंड आवंटित किया गया है

केंद्र सरकार ने इस योजना को तीन सालों की अवधि के लिए 1,650 करोड़ रुपए फंड के साथ लागू किया है। रिसर्च की चाह रखने वाले स्टूडेंटस को इससे मदद मिलेगी। इसके अलावा इस स्कॉलरशिप के तहत शॉर्टलिस्ट हुए आईआईटीज, आईआईएसईआर, आईआईआईटी और एनआईटी के बीटेक ग्रैजुएट्स आईआईटीज या आईआईएससी बेंगलुरु से सीधे पीएचडी भी कर सकते हैं।
पीएमआरएफ के तहत चुने हुए छात्रों को मासिक छात्रवृत्ति के साथ-साथ सालाना 2 लाख रुपए तक की ग्रांट भी दी जाएगी।

प्रकाश जावडेकर ने कहा इससे बंद होगा भारतीय प्रतिभाओं का विदेशों की ओर पलायन

केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावडे़कर ने कहा कि 1,000 बी.टेक छात्रों की ओर से भारतीय प्रोद्दोगिकी संस्थानों (आईआईटी) और भारतीय विज्ञान संस्थानों (आईआईएससी) में पीएचडी करने के लिए शुरू की गई प्रधानमंत्री शोध फेलोशिप योजना से भारतीय प्रतिभाओं को विदेशों से वापस लाने में मदद मिलेगी।

उन्होंने बताया कि इस स्कीम को 2018-19 के ऐकेडमिक सेशन से लागू किया जाएगा और इसके लिए न्यूनतम स्कोर 8.5 सीजीपीए रखा गया है। उन्होंने कहा कि इस योजना के तहत शोध से एक तरफ तो हमारी राष्ट्रीय प्राथमिकताएं पूरी होंगी और दूसरी ओर प्रतिष्ठित शैक्षणिक संस्थानों में गुणवत्ता वाले शिक्षकों की कमी भी पूरी हो सकेगी।

loading...
शेयर करें