राज्यपाल ने की अखिलेश यादव के खिलाफ जांच की सिफारिश

0

लखनऊ। सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद यूपी के पूर्व मुख्यमंत्रियों ने अपने सरकारी बंगले खाली कर दिए। लेकिन सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव के बंगले खाली करने के बाद से हंगामा मचा हुआ है। कहा जा रहा है कि उस बंगले में तोड़फोड़ की गई है और उसे क्षतिग्रस्त किया गया है। अब इसे लेकर यूपी के राज्यपाल राम नाईक ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को एक पत्र लिखा है। मंगलवार को लिखे पत्र में उन्होंने जांच की मांग की है।

अखिलेश यादव

उन्होंने अपने इस पत्र में लिखा है कि पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के खाली किये गये सरकारी आवास में तोड़फोड़ के प्रकरण में कानून के अनुसार समुचित कार्रवाई की जाए। राजभवन के एक प्रवक्ता ने बताया कि राज्यपाल ने अपने ख़त में लिखा है कि अखिलेश यादव को चार, विक्रमादित्य मार्ग पर आवंटित आवास को खाली किये जाने से पूर्व उसमें की गई तोड़फोड़ और उसे क्षतिग्रस्त किये जाने का मामला मीडिया व जनमानस में चर्चा का विषय बना हुआ है।

पत्र में कहा गया कि यह एक नितान्त अनुचित और गम्भीर मामला है। उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्रियों को आवंटित किये गये शासकीय आवास राज्य सम्पत्ति के कोटे में आते हैं, जिनका निर्माण व रख-रखाव सामान्य नागरिकों द्वारा दिये जाने वाले विभिन्न प्रकार के करों से होता है।’ उन्होंने कहा कि राज्य सम्पत्ति को क्षति पहुंचाये जाने के लिए राज्य सरकार द्वारा विधि अनुसार समुचित कार्रवाई की जाये।

उच्चतम न्यायालय के आदेश के बाद राज्यपाल ने खुद हुए राज्य सम्पत्ति विभाग के अधिकारियों को बुलाकर पूर्व मुख्यमंत्रियों को राज्य सरकार द्वारा आवंटित आवासों को रिक्त किये जाने के बारे जानकारी ली। अधिकारियों ने उन्हें बताया कि मुख्यमंत्रियों द्वारा घर छोड़े जाने के बाद जब बंगलों की विडियोग्राफी की गई तब सपा मुखिया को आवंटित सरकारी बंगले में की गई तोड़फोड़ की बात सामने आई।

loading...
शेयर करें