गुजरात निकाय चुनाव नतीजे : जीतकर भी बीजेपी को हुआ नुकसान, कांग्रेस ने भी किया शानदार प्रदर्शन

0

अहमदाबाद। पिछले साल गुजरात विधानसभा चुनावों के दौरान बीजेपी और कांग्रेस में कड़ी टक्कर देखने को मिली थी। हालांकि यहां बीजेपी ने सरकार बना ली थी, लेकिन बहुत मुश्किल से बीजेपी से आकड़ा छू पाई थी। 150 सीटें जीतने का दावा करने वाली बीजेपी को कांग्रेस ने 99 पर ही रोक दिया था। वहीं, एक बार फिर गुजरात में चुनावी माहौल बना हुआ है। गुजरात में हुए 74 नगरपालिका चुनाव के लिए वोटों की गिनती पूरी हो गई है। बीजेपी ने एक बार फिर कांग्रेस को शिकस्त दे दी, लेकिन दोनों में काफी कड़ा मुकाबला देखने को मिला।

यह भी पढ़ें : नवाज़ शरीफ के जन्मदिन पर लाहौर जाने पर पाक ने मोदी सरकार को थमाया 2.86 लाख रु. का बिल

गुजरात निकाय चुनाव

बीजेपी-कांग्रेस में कड़ी टक्कर देखने को मिली

राज्य में 75 नगरपालिकाओं में से बीजेपी ने 47 सीटों पर जीत दर्ज की है। शुरुआत में बीजेपी को कड़ी टक्कर देती दिख रही कांग्रेस को 16 सीटों पर जीत मिली है। जबकि एनसीपी और बसपा के हाथ एक-एक शहरी निकाय लगा। चार निर्दलीय उम्मीदवारों ने भी जीत का स्वाद चखा है। हालांकि पिछले चुनाव की तुलना में बीजेपी को 16 सीटों का नुकसान हुआ है। दिसंबर में हुए विधानसभा चुनाव के बाद यह पहला चुनाव है। इस चुनाव के लिए 17 फरवरी को वोट डाले गए थे। निकाय चुनाव में बीजेपी की ओर से 1934 और कांग्रेस के 1783 कैंडिडेट्स मैदान में थे। 1793 निर्दलीय कैंडिडेट्स ने चुनाव लड़ा था।

यह भी पढ़ें : त्रिपुरा विधानसभा चुनाव : 59 सीटों के लिए वोटिंग खत्म, क्या 25 सालों की सत्ता हिला पाएंगी बीजेपी?

75 की जगह 74 नगरपालिकओं के लिए चुनाव कराए गए

दिलचस्प बात यह रही कि अमरेली जिले के जाफराबाद सीट से भाजपा प्रत्याशी को निर्विरोध विजयी घोषित कर दिया गया क्योंकि उनके खिलाफ किसी ने भी पर्चा दाखिल नहीं किया था। इसी वजह से 75 की जगह 74 नगरपालिकओं के लिए चुनाव कराए गए। आपको बता दें कि पिछले चुनाव में बीजेपी का 60 नगर पालिकाओं का कब्जा था, 6 पर कांग्रेस का कब्जा था। 9 पर निर्दलीयों के साथ बीजेपी सत्ता में आई थी।

ग्रामीण क्षेत्रों में बीजेपी की स्थिति अच्छी नहीं है

शहरी क्षेत्रों में भाजपा का प्रदर्शन अच्छा है लेकिन ग्रामीण क्षेत्रों में उसकी स्थिति अच्छी नहीं मानी जाती है। पार्टी ने इसी बात को ध्यान में रखते हुए बजट में ग्रामीण क्षेत्र और किसानों को खासा तवज्जो दी है। वहीं, कांग्रेस के सामने शहरों में बेहतर प्रदर्शन करने की चुनौती है। दाहोद में सबसे ज्यादा 76.67% और राजकोट में सबसे कम 50.17% मतदान हुआ था।

loading...
शेयर करें