बदसलूकी करने वाले प्रोफेसर को नौकरी दिलाने पर HC ने दी मंजूरी

0

नैनीताल। राज्य में प्रिंसिपल के सामने महिला प्रोफेसर से बदसलूकी करने वाले बर्खास्त प्रोफेसर के खिलाफ हाई कोर्ट ने बहाल करने का आदेश दिया है। कोर्ट ने उन्हें बहाल करते हुए एक महीने के अंदर एरियर के अलावा परिवाद व्यय के एक लाख रूपए देने के लिए आदेश पारित किया है।

यह भी पढ़ें, पूर्व सीएम का हमला, नोटबंदी के पीछे है भाजपा सरकार का बड़ा खेल

हाई कोर्ट

बता दें, कोर्ट ने विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (UGC) को पिछले पांच सालों में कॉलेज दी गयी ग्रांट की जांच करने के भी निर्देश दिए हैं। इसके अलावा न्यायाधीश न्यायमूर्ति सुधांशु धूलिया और न्यायमूर्ति लोकपाल सिंह की खंडपीठ ने मामले को अंतिम रूप से निस्तारित करते हुए प्राध्यापक को बहाल करने, उसके एरियर का भुगतान करने तथा एक लाख की रकम परिवाद व्यय के तौर पर देने का आदेश पारित किया है।

बता दें, साल 2014 में रुड़की स्थित बीएसएम कॉलेज में हिंदी डिपार्टमेंट पद पर कार्यरत महिला प्रोफेसर ने असिस्टेंट प्रोफेसर सम्राट शर्मा पर प्रिंसिपल के सामने बदसलूकी करने का आरोप लगाया था। इसके बाद कॉलेज प्रबंधन ने प्रोफेसर सम्राट शर्मा को निलंबित कर दिया था।

उसके बाद बर्खास्त कर दिया था। बर्खास्तगी की सहमति गढ़वाल विवि के कुलपति से भी ली गई। वहीं, प्रबंधन की इस कार्रवाई को प्रोफेसर सम्राट शर्मा की तरफ से याचिका के माध्यम से हाई कोर्ट में चुनौती दी गई है। जिस पर कोर्ट ने आदेश पारित किया है।

loading...
शेयर करें

आपकी राय