कैसा जाएगा आपका आज का दिन जानने के लिए पढ़ें राशिफल

0

।।आज का पञ्चाङ्ग।।

आज का दिन मंगलमय हो/8जनवरी दिन सोमवार/ऋतु-शिशिर/माह-माघ/सूर्य-दक्षिणायन/सूर्योदय-06:45/सूर्यास्त-05:15/राहूकाल(अशुभ समय)प्रातः 07:30 से 09:00 बजे तक/पक्ष-कृष्ण/तिथि-सप्तमी/दिशाशूल-पूर्व व उत्तर/शुभ दिशा-पश्चिम व दक्षिण/अभिजितमुहूर्त- दोपहर 12:07से 12:48 तक/यात्रायोयोग्यअमृतमुहूर्त –प्रातः/07:15 से 08:35 तक।

आज का राशिफल

मेष :- आज व्यापार में उन्नति मिलेगी। कृषि व

बौद्धिक कार्य सफल रहेंगे। पार्टी व पिकनिक का आनंद मिलेगा। घर-परिवार की चिंता रहेगी। धनलाभ होगा। आजीविका में उन्नति होगी। पारिवारिक माहौल प्रसन्नतायुक्त रहगा।

सुझाव:- आज आप खजूर का दान करें।

राशिरत्न:- मूँगा

शुभरंग:- हल्काहरा

वृष :- आज आपका व्यापार  उत्तम रहेगा। व्यक्ति विशेष से मुलाकात होगी। रुके कार्यों में द्रुतगति आएगी।कृषि क्षेत्र मे लाभ मिलेगा , यात्रा लाभ देगी।आज मानसिक तनाव आप से कोसों दूर रहेगा।

सुझाव:- आज आप पंचामृत से शिव परिवार का सविधि अभिषेक करें।

राशिरत्न:- हीरा,ओपल

शुभरंग:- हल्का लाल

मिथुन :- आज आपका व्यापर मन्द रह सकता है। किन्तु कठिन

परिश्रम का फल पूर्णतया प्राप्त होगा। घर-बाहर पूछ-परख रहेगी। धनार्जन होगा। यात्रा मनोरंजक रहेगी। भूमि विवाद की आशंका रहेगी। यात्रा से हानि हो सकती है।

सुझाव:- आज आप घी के पाँच दीपक शिव परिवार के सम्मुख प्रज्ज्वलित करें।

राशिरत्न:- पन्ना

शुभरंग:- पीला

कर्क :- आज  आप को व्यापारिक व कृषि कार्यों में लाभ मिल सकता है।

अच्छी खबर मिलेगी। प्रसन्नता में वृद्धि होगी। शत्रु परास्त होंगे। धनार्जन होगा। यात्रा सफल रहेगी। आज आप प्रसन्न व उत्साहित रहेंगे।

सूझाव:- आज आप श्वेत तिल व गुड़ का दान किसी विप्र को करें।

राशिरत्न:- मोती

शुभरंग:- जामुनी

सिंह :- आज व्यापर उत्तम रहेगा ।

नवीन वस्त्राभूषण की प्राप्ति होगी। धनार्जन होगा। यात्रा मनोरंजक रहेगी। कार्यसिद्धि से प्रसन्नता रहेगी। आजीविका के क्षेत्र में लाभ होगा।

सुझाव:- आज आप श्रीसीताराम  चन्दनकी कलम से 11 तुलसी पत्र लिखकर भगवान  को अर्पित करें।

राशिरत्न:- माणिक्य

शुभरंग:- स्लेटी

कन्या :- आज प्रिय जनों से सहयोग मिलेगा। स्वास्थ्य के प्रति सचेत रहें।

पुराना रोग उभर सकता है। अप्रत्याशित खर्च सामने आएंगे। दूसरों से अपेक्षा न करें। कुसंगति से बचें। रुकी रकम प्राप्त होने से आर्थिक स्थिति सुधरसकेगी।

सुझाव:-आज आप नारियल पानी से भगवान शिवपार्वती का अभिषेक करें।

राशिरत्न:- पन्ना

शुभरंग:- धानी

तुला :- आज शिक्षण के क्षेत्र में आपको सफलता मिल सकती है।

यात्रा मनोरंजक रहेगी। रुका हुआ धन मिलेगा, प्रयास करें। आलस्य  को हावी न होने दे। व्यवसाय लाभदायक रहेगा। योजना फलीभूत हो सकेगी। पारिवारिक समन्जस्यता बनी रहेगी।

सुझाव:- आज आप ताँबे के पात्र का दान करें।

राशिरत्न:- हीरा, ओपल

शुभरंग:- समुद्रीहरा

वृश्चिक :- आज आपके व्यापारिक

कार्यपद्धति में सुधार होगा। योजना फलीभूत होगी। घर-बाहर पूछ-परख रहेगी। धन प्राप्ति सुगम होगी।कार्यस्थल पर सुधार होगा।परिवार में मांगलिक कार्यों में उन्नति मिलेगी।

सुझाव:- आज आप पंचामृत से माता महालक्ष्मी का अभिषेक करें।

राशिरत्न:- मूँगा

शुभरंग:- सुनहला

धनु :- आज आपको वरिष्ठजनों का सहयोग प्राप्त होगा। तीर्थदर्शन संभव है। जल्दबाजी न करें। घर-बाहर प्रसन्नता रहेगी। व्यावसायिक यात्रा सफल रहेगी।पारिवारिक वातावरण उत्तम रहेगा।

सुझाव:- आज आप भगवान श्री गणेश को दूर्वांकुर अर्पित करें।

राशिरत्न:- पुखराज

शुभरंग:- बादामी

मकर :- आज के दिन आपको वाहन व अग्नि से बचना चाहिए। कुसंगति से बचें । व्यर्थ दौड़धूप  थोड़ी परेशानी दे सकती है। वस्तुएं संभालकर रखें। विवाद से बचें। व्यवसाय उत्तम रहेगा। प्रतिद्वंद्वी सक्रिय रह सकते है।

सुझाव:- आज आप नारियल मिश्री मातारानी के मंदिर में  अर्पित करें।

राशिरत्न:- नीलम

शुभरंग:- महरून

कुंभ :- आज निश्चय ही आपके शत्रु परास्त हो सकेंगे। प्रेम-प्रसंग में जोखिम न लें। धनलाभ की संभावना प्रबल है। बाहरी सहयोग से कार्य पूर्ण हो पाएंगें। व्यापर में तेजी से सुधार होगा।पारिवारिक वातावरण अनुकूल रहेगा।

सुझाव:- आज आप गरीबों को  चावल व चने कीदाल  नमक दान  करें।

राशिरत्न:- नीलम

शुभरंग:- पर्पल

मीन :- आज आपके आर्थिक उन्नति के प्रयास सफल रहेंगे। संपत्ति के सौदे बड़ा लाभ दे सकेंगे । स्वास्थ्य प्रभावित हो सकता है। कोर्ट-कचहरी के कार्यों में  अनुकूलता रहेगी। पारिवारिक वातावरण शुभ होगा।

सुझाव:- आज आप दूध से भगवान शिव का अभिषेक करें।

राशिरत्न:- पुखराज

शुभरंग:- पीला

।।आज के दिन का विशेष महत्व।।

1 आज शिशिर ऋतु माघ माह कृष्णपक्ष सप्तमी तिथि है।

2 आज सर्वाप्ति सप्तमी है, आज ही स्वमी रामानन्दाचार्य जयंती है।

3 आज स्वामी विवेकानन्द जी की जयंती है।

।।प्रेरणा दाई चौपाई।।

रामु सुमंत्रहि आवत देखा। आदरु कीन्ह पिता सम लेखा।।

अर्थ:- पूज्य गोस्वामी तुलसीदास जी श्रीरामचरित्र मानस में वर्णित करते हुवे अयोध्याकाण्ड में उस समय का चित्रण कर रहें है जब महाराज दशरथ जी अपने रघुवंश की सत्यसंघीय वचन से विवस हो कर  अपने प्राण प्यारेश्री राम को 14 वर्ष का वन वास सुनाने हेतु सुमन्त्र जी को श्रीराम को बलाने के लिए भेजा प्रभु श्री राम जी जैसे देखे की सुमन्त्र जी उनके कक्ष की ओर आ रहें हैं तो वे जैसे पिता का आदर किया करते हैं वैसे ही पिता समान समझ कर उनका आदर किया ।

“अस्तु मानस जी की ये अर्धाली हम सब को अपने से बड़ों का चाहे जैसी भी परिस्तियाँ हो सम्मान करना सिखाती है। हम जब दूसरों का सम्मान करेंगे तभी दूसरे भी हमारा सम्मान करेंगे “।

।। वास्तु टिप।।

यदि प्रतिष्टित गोमती चक्र को सिंदूर की डिब्बी में करके घर मे रखें तो घर में निश्चित है कि सुख शांति बनी रहती है व वास्तु दोष का शमन होता है इसमें संशय नहीं है।

।।इति शुभम्।।

।।आचार्य स्वामी विवेकानन्द।।

।।ज्योतिर्विद , वास्तुविद व सरस् कथाव्यास।।

संपर्क सूत्र- श्रीधामश्री अयोध्या जी 9044741252

loading...
शेयर करें