रिसर्च : अगर दूसरों की करेंगे मदद तो लंबी होगी आपकी उम्र

0

न्यूयार्क। दूसरों की मदद करने से न सिर्फ पीड़ित को मदद मिलती है बल्कि मदद करने वालों की उम्र भी लम्बी होती है। ये हम नहीं ये शोध कहती है। हावर्ड स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ के प्रफेसर ईचीरू के मुताबिक, ‘रीसर्च से सामने आया है कि आपदा के वक्त सामाजिक जुड़ाव उतनी ही अहमियत रखता है जितनी की चिकित्सकीय सहायता।

उल्लेखनीय है कि कुछ सालों से दुनिया भर में कई प्राकृतिक आपदाएं आई हैं। इन आपदाओं से जहां जान-माल का काफी नुकसान हुआ है वहीं इसका दूसरा अच्छा पहलू ये उभर का आया है लोग एक दूसरे की मदद करने समाने आ रहे हैं। जो लोग उतरता दिखाते हैं वो मदद करने वाले लोगों के लिए बेहद फायदेमंद होता है। इस उदारता का प्रभाव उनके स्वास्थ्य पर भी पड़ता है।

कैलिफॉर्निया यूनिवर्सिटी की सोसिऑलजिस्ट क्रिस्टीन बताती हैं कि जब भी कोई प्राकृतिक आपदा आती है तो लोगों में मदद करने कि भावना जाग्रत होती है और ये भावना सिर्फ इसलिए आती क्योंकि हमारा विकास समूह में हुआ न कि अकेले। अगर हम लोगों से मिलते हैं उनकी मदद करते हैं तो अकेलेपन का अहसास कम होता है।

उन्होंने बताया, ‘जब हमारे जीवन पर खतरा आता है तो हम अपने आसपास के लोगों से संबंध मजबूत करने लगते हैं। हम उदारता दिखाते हैं। हम दया दिखाते हैं। ये भावनाएं हमें एक-दूसरे से जोड़ती हैं।’ वैज्ञानिक प्रमाण इस बात को सपॉर्ट करते हैं कि उदारता तभी फायदेमंद होती है जब हम हमेशा ऐसे काम करते हैं न कि किसी प्राकृतिक आपदा के वक्त। मदद करने से ब्लड प्रेशर घटने और मृत्युदर कम होने जैसे स्वास्थ्य से जुड़े फायदे होते हैं।

इसके अलावा न्यूरोसाइंटिस्ट डॉ रिचर्ड डेविडसन दया और करुणा जैसे सकारात्मक भावों के दिमाग पर होने वाले असर का अध्ययन कर रहे हैं। इनका कहना है कि जब भी हम उदारता के काम करते हैं तो हमारा दिमाग खुद के लिए सुख के लिए किये कामों का व्यवहार दिखाता है। इसलिए उदारता दिखाने से हमारे अन्दर अलग सी उर्जा जाग्रत होती जो हमे खुसी प्रदान करती है।

 

loading...
शेयर करें