अगर विदेश का बना रहे हैं प्लान तो जरुर जाएं ‘पूरब के स्विट्जरलैंड’

0

इंफाल। ‘पूरब का स्विट्जरलैंड’ के नाम से मशहूर मणिपुर अपनी विविध वनस्पतियों और जीव-जंतुओं के कारण मणिपुर को ‘भारत का आभूषण’ भी कहा जाता है। यही कारण है कि प्रकृति मणिपुर पर काफी मेहरबान है। ऐसे में अगर आप भी प्रकृति के नजारों का लुत्फ़ उठाना चाहते हैं तो मणिपुर की ट्रिप एक बार जरुर प्लान करें।

Related image

बताते चलें, मणिपुर पर्यटकों को काफी आकर्षित करता है क्योंकि यहां लुभाने वाले प्राकृतिक दृश्यों, में विलक्षण फूल-पौधे, निर्मल वन, लहराती नदियां, पहाड़ियों पर छाई हरियाली के नज़ारे काफी सुंदर हैं जो पर्यटकों को अपनी ओर खींचने में कोई कसर नहीं छोड़ते हैं। इन सबके अलावा पर्यटकों के लिए कई आकर्षण हैं जो राज्य में पर्यटन के विकास के लिए अच्छे मौके देते हैं।

Image result for मणिपुर

श्री गोविंद जी मंदिर, खारीम बंद बाजार (इमा कैथल) युद्ध कब्रिस्तान, शहीद मीनार, नुपी सान (महिलाओं का युद्ध) मेमोरियल कॉम्लेार क्सा, खोंघापत उद्यान, आईएनए मेमोरियल (मोइरांग), लोकटक झील, कीबुल लामजो राष्ट्रीय उद्यान, विष्णुपुर स्थित विष्णु मंदिर, सेंड्रा, मोरेह सिराय गांव, सिराय की पहा‍ड़ियां, डूको घाटी, राजकीय अजायबघर, कैना पर्यटक निवास, खोंगजोम वार मेमोरियल आदि मणिपुर के कुछ महत्वपूर्ण पर्यटक स्थल है।

Related image

अगर आप मणिपुर जाने का प्लान बना रहे हैं तो इन जगहों पर जरुर जाएं। बताते चलें, यहां के दर्शनीय स्थलों में इम्फाल, उख्रुल प्रसिद्ध हैं। इम्फाल में कांग्ला पार्क, गोविंद मन्दिर वहां के बाजार, टीकेन्द्रजित पार्क प्रसिद्ध हैं तो उख्रुल की पहाड़ियां प्रसिद्ध हैं। चुडाचांदपुर जिले में लोकतक झील प्रसिद्ध हैं। वैसे यहां की एक खास बात ये भी है कि मणिपुर जाने वाले विदेशियों को प्रतिबंधित क्षेत्र पर्मिट लेना जरुरी होता है।

यह भी पढ़ें : इन देशों में घूमने जाएंगे तो नहीं लेना होगा वीजा

ये नियम उन विदेशियों पर भी लागू होते हैं जो मणिपुर में जन्मे होते हैं। यह चारों मुख्य महानगरों में स्थित विदेशियों के क्षेत्रीय पंजीकरण कार्यालय से मिलता है। यह पर्मिट मात्र दस दिन के लिए वैध होता है, व सैलानी यहां भ्रमण करने के लिए प्राधिकृत ट्रैवल एजेंट द्वारा वयवस्थित चार लोगों के समूहों में ही जा सकते हैं। साथ ही विदेशी सैलानी यहां वायुयान द्वारा ही आ सकते हैं और उन्हें राजधानी इंफाल के बाहर घूमने की परमिशन नहीं है।

loading...
शेयर करें

आपकी राय