सुनवाई न होने पर महिला ने सीएम आवास के सामने की आत्मदाह की कोशिश

0

लखनऊ। मामला लखनऊ का है जहां कुछ दिनों पहले एक महिला के साथ स्कूल प्रिंसिपल ने अभद्रता और मारपीट जैसी हरकत की थी। इस घटना की जानकारी जब उसने पुलिस को दी तो उस पर कार्रवाई न होने पर उसने आत्मदाह जैसा बड़ा कदम उठाया। घटना आज यानि 24 अप्रैल को लखनऊ के सीएम आवास के सामने घटित हुई।

यह पूरी घटना सीएम योगी के आवास के सामने हुई। विधान भवन के सामने किए गए इस प्रयास को जब वहां तैनात पुलिस बल ने देखा तो सब उसे बचाने में लग गए। महिला ने पुलिस के साथ ही एक स्कूल के मैनेजर पर भी गंभीर आरोप लगाया है। महिला का नाम रश्मि विश्वकर्मा बताया जा रहा है।

क्या है मामला-
कैसरबाग पुलिस और सीओ चौक पर सुलह करने के लिए दबाव बनाने का आरोप लगाया। महिला ने सरस्वती शिशु मंदिर, मॉडल हाउस के प्रिंसिपल विनोद अवस्थी पर छेड़छाड़ व अभद्रता का आरोप लगाया है। इस महिल को पुलिस ने अपनी हिरासत में लिया है। साथ ही यह आरोप भी लगाया है कि 20 अप्रैल को सीएम आवास के बाहर पुलिस ने उसे पीटा भी था।

इस आरोप पर पुलिस बल ने सफाई देते हुए कहा है कि रश्मि और उसकी बहन पिछले 6 घंटे से सीएम से मिलने के लिए आवास के बाहर इंतजार कर रही थी। जिसके बाद से पुलिस ने उन्हें हटाने की कोशिश करी थी न कि मारपीट की।

मामले की जानकारी देते हुए रश्मि ने बताया कि करीब दो साल पहले वह स्कूल में पढ़ाती थी। उस दौरान स्कूल के प्रिंसिपल ने उनके साथ अभद्रता, मारपीट और बदतमीजी की थी।

जिसके बाद उन्होंने प्रिंसिपल की पुलिस में शिकायत भी की थी। मामले को उन्होंने कैसरबाग कोतवाली में दर्ज कराया था। जानकारी देते हुए रश्मि ने बताया कि रिपोर्ट दर्ज होने के बाद उसे जान से मारने की धमकी भी दी जा रही थी। रिपोर्ट के बाद भी संबंधित मुकदमे में प्रिंसिपल के दबाव में पुलिस इस केस में कोई कार्रवाई नहीं की थी।

मिली जानकारी के मुताबिक आरोपी ने पीड़िता के परिवार पर कई फर्जी मुकदमे भी लिखवा दिए।रश्मि व उनका परिवार थानों से लेकर अधिकारियों के कार्यालयों के चक्कर काट रहा है, लेकिन पुलिस कोई कार्रवाई नहीं कर रही, विवेचना के दौरान संबंधित मुकदमे में विवेचक ने गलत रिपोर्ट भी लगा दी।

loading...
शेयर करें