योग को लेकर आपस में उलझे रहे भारतीय, इस मुस्लिम देश ने दिया बड़ा दर्जा

0

नई दिल्ली। योग को अंतराष्‍ट्रीय दर्जा मिलने के बाद भी भारत में योग को वो पहचान नहीं मिल पा रही है जो होना चाहिए। इस आधुनिक के दौर में भी यहां के लोग अपनी इस विरासत को नहीं संभाल पा रहे है। जबकि दूसरे देशों में इसे एक बाद एक नई उपलब्‍धी मिल रही है। यहां पर विरोध होने के कारण वो मुकाम नहीं मिल पा रहा है जो होना चाहिए था।

वहीं मुस्लिम देश सऊदी अरब में योग को खेल का दर्जा मिल गया है। यह भारत के लिए बहुत बड़ी उपलब्‍धी है। सऊदी अरब के व्यापार एवं उद्योग मंत्रालय ने योग को खेल गतिविधियों के रूप में मान्यता दी है। इससे अब यहां पर कोई भी योग सिखा सकता है इसके लिए उसे एक अनुमति की जरुरत होगी। योग को सऊदी अरब में खेल का दर्जा देने के पीछे नउफ मरवई को श्रेय बहुत है, जो यहां योग की पहली महिला योग प्रशिक्षक हैं।

यह भी पढ़े- सीएम योगी का ऐलान, सरकार अयोध्या को उसका गौरव वापस दिलाकर रहेगी

बता दें कि अरबी योगाचार्य के रूप में पहचान बनाने वाली मशहूर नउफ ने इसकी शुरुवात वर्ष 2010 अरब योग फाउंडेशन की स्थापना करके की थी। इसी के तहत उन्होंने रियाद-चाइनीज मेडिकल सेंटर खोला हुआ है। यहां पर वो आयुर्वेद और योग जैसे गैर-पारंपरिक तरीकों से मरीजों का इलाज करती हैं। योग पर उन्‍होंने कहा है कि इसे धर्म से जोड़कर नहीं देखना चाहिए।

loading...
शेयर करें

आपकी राय