क्या आपके हाथ में है सफलता की रेखा ?

0

नई दिल्ली। कहते हैं इंसान का मुकद्दर उसकी हथेली की लकीरों में छिपा होता है। कुछ लोग जिन्दगीभर कडी मेहनत करते रहते हैं, लेकिन सफलता उनसे दूर ही रहती है। वहीं कुछ लोग ऐसे भी होते हैं जो जिस भी काम में हाथ डालते हैं उसमे सफलता प्राप्त करते हैं। लोग ऐसे लोगों को किस्मतवाला मानते हैं। ज्योतिषियों के मुताबिक व्यक्ति की किस्मत उसकी हथेली की रेखाओं में छिपी हुई होती है। इंसान का भाग्य कब कौन सी करवट लेगा यह इंसान की हस्तरेखाओं में मौजूद होता है। सफल लोगों के हाथों में होती हैं सफलता की रेखा। तो आज हम आपको बताएंगे कि हथेली में कौन सी रेखा होती है सफलता की रेखा।

जानिए हाथों की लकीरों में कौन सी लकीर है सफलता की रेखा

यदि सूर्यरेखा मणिबंध या उसके पास से शुरू होकर भाग्येरेखा के निकट एवं समानान्तयर अपने स्था न को जो रही हो तो यह सबसे उत्त म मानी गई है। ऐसी रेखा वाला व्य क्ति् प्रतिभा और भाग्यो के मेल से जिस काम में हाथ डालता है उसी में सफलता के झंडे लहराता है। हाथों में हृदयरेखा के पास से आरंभ होने वाली सूर्यरेखा से व्य क्तिह उत्तारकाल में उन्नहति करता है। यह अवस्थाम लगभग 56 वर्ष की होती है। लेकिन इसके लिए सूर्यरेखा का स्पनष्टक होना जरुरी है। ऐसी स्थि ति में उस व्याक्तिि के जीवन का चौथा चरण सुखमय व्यकतीत होता है। इसके उलट यदि हाथों में हृदयरेखा के ऊपर सूर्य रेखा का अभाव हो अथवा छोटे-छोटे टुकड़ों में हो तो व्य क्तिा का जीवन अंधकारमय व्य तीत होगा। वह भी तब जबकि भाग्यो रेखा निराशाजनक हो।

यदि सूर्य रेखा और भाग्यश रेखा दोनों ही शुभफल देने वाली होकर एक-दूसरे के समानान्तयर जा रही हों और साथ में मस्तिलष्को रेखा भी स्प ष्ट एवं सीधी हो तो ऐसा व्यतक्ति धनाढ्य एवं ऐश्वर्यपूर्ण होता है। ऐसे योग वाला व्यीक्तिष बुद्धिमान और दूरदर्शी होता है। साथ ही हर क्षेत्र में सफलता पाने वाला होता है। ये रेखा व्यक्ति को धन, मान-सम्मान, सुख और प्रसिद्धि दिलाती है।

loading...
शेयर करें