कुछ ही देर में शुरु होने वाला है चन्द्रग्रहण, जान लीजिए ये जरूरी बातें

0

*।।ॐ चन्द्रग्रहण एक दृष्टि ॐ।।*

भानौ:पचंदशे ऋक्षे चन्द्रमा यदि तिष्ठति ।
पौर्णमास्याम तिथौ शेषे चन्द्र ग्रहणमादिशेत।।

*अर्थात-* सूर्य जिस नक्षत्र पर हों उस नक्षत्र के पन्द्रहवें नक्षत्र पर यदि चन्द्रमाँ हो और पूर्णिमा में प्रतिपदा के प्रवेश करने पर चंद्रग्रहण लगता है।
इस सिद्धांत के अनुसार माघ शुक्लपूर्णिमा 31 जनवरी 2018 को शायंकाल 05:35 मिनट पर ग्रहण का स्पर्श एवं रात्रि में 08:42 मिनट पर मोक्ष होगा।
पुष्य ,श्लेषा दोनों नक्षत्रों पर ग्रहण होने के कारण कर्क राशि वालों को अधिक प्रभावित करेगा। इस ग्रहण की अवधि 3 घण्टे 7 मिनट की है, जैसा कि धर्म शास्त्र के अनुसार चन्द्र ग्रहण में 9 घण्टे पूर्व सूतक का प्रवेश होता है अतः प्रातः08:35 पर ग्रहण का सूतक लग जायेगा। सनातन धर्मावलम्बी जन सूतक में भोजनादि क्रिया नही करेंगे! बाल, वृद्ध एवं रोगी को छोड़ कर।

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार अपनी जन्म राशि से 3,6,10,11 वीं राशि पर ग्रहण पड़े तो शुभ फल होता है। अपनी जन्मराशि से यदि 2,7,9 पर ग्रहण पड़े तो मध्यम फल होता है।
इसके अतिरिक्त अपनी जन्म राशि से 1,4,8,5,12,राशि पर ग्रहण अच्छा फल नहीं देता है।किसी विद्वान के मत से अपनी राशि से 3,8,4,11 पर उत्तम फल व 5,9,6 पर मध्यम, व 1,2,7,12 पर अधम फल होता है। इस तरह सनातन परंपरा में ज्योतिर्विदों ने ग्रहण का फल कहा है।

*चंदा से रवि सातवें, राहु शशि एकांत।*
*पूनों में पड़वा मिले निश्चय ग्रहण पड़न्त ।।*
इस सिंद्धांत के अनुसार माघी पूर्णिमा का ग्रहण दृष्टव्य है। शेष बुधजन चिंतन करें।

*।।आपका अपना आचार्य रघुनाथ दास त्रिपाठी।।*

*अयोध्यास्त विद्वतधर्मप्रचार- संस्थान रामबागहाता* *नयाघाट अयोध्या।।*
*संपर्क सूत्र-9454834245*

loading...
शेयर करें