फिल्म रिव्यू : सलमान को टक्कर नहीं दे पाए वरुण, लोगों ने ‘जुड़वा 2’ को बताया बकवास

0

फिल्म का नाम: ‘जुड़वा 2’

डायरेक्टर: डेविड धवन

स्टार कास्ट: वरुण धवन, तापसी पन्नू, जैकलिन फर्नांडिस, अनुपम खेर, पवन मल्होत्रा, विवान भंतेना, सलमान खान, अली असगर, विकास वर्मा, राजपाल यादव

रेटिंग : 2 स्टार

मुंबई। फिल्म की कहानी मुंबई के एक बिजनेसमैन मल्होत्रा (सचिन खेडेकर) से शुरु होती है, जो अपनी प्रेग्नेंट वाइफ की डिलवरी के लिए फ्लाइट से दूसरे शहर जा रहा होता है। इतने में एक गुंडा खुद को पुलिस से बचाने के लिए उस बिजनेसमैन के बैग में हीरे रख देता है। मल्होत्रा को जुड़वा लड़के होते हैं, इतने में गुंडा भी अस्पताल अपने हीरे लेने आता है। हीरे लेने आए गुंडे को मल्होत्रा पुलिस के हवाले कर देता है। इसी बीच वो गुंडा मौका पाकर बिजनेसमैन के जुड़वां बच्चों में से एक को लेकर भाग जाता है और उस बच्चे को रेलवे ट्रैक पर छोड़ देता है। लावारिस पड़े बच्चे को एक महिला अपना लेती है, वहीं बच्चा बड़ा होकर राजा (वरुण धवन) बनता है। उधर मल्होत्रा को लगता है कि उनका दूसरा बच्चा मर गया, जिसके बाद वो लंदन शिफ्ट हो जाते हैं। उनका बेटा बड़ा होता और प्रेम (वरुण धवन) नाम से जाना जाता है। दोनों ही लड़कों की परवरिश बिलकुल अलग होती है, एक टपोरी तो दूसरा जैंटलमैन होता है। क्योंकि राजा टपोरी स्वाभाव का होता है इसलिए आए दिन पुलिस उसके पीछे पड़ी रहती है। पुलिस से बचने के लिए राजा लंदन चला जाता है।

लदंन में कैसे होती है दोनों भाईयों की मुलाकात, जब दोनों भाई मिलते हैं तो क्या होता है। इसी बीच उनकी जिंदगी में समारा (तापसी पन्नू) और अलिष्का (जैकलीन फर्नांडिज) की एंट्री कैसे होती है। फिल्म में और क्या- क्या ट्विस्ट और टर्न्स आते हैं इसके लिए आपको सिनेमाघर तक जाना पड़ेगा।

डायरेक्शन

फिल्म का डायरेक्शन अच्छा है लेकिन कहानी कमजोर है। अगर इसकी सलमान खान की ‘जुड़वा’ के साथ तुलना की जाए तो इसे देखकर उतना मजा नहीं आएगा जितना पहली वाली जुड़वा में आया था। पंच भी उतने मजेदार नहीं हैं, स्क्रिप्ट और एडिटिंग दोनों ही बेहद कमजोर है। इसे और अच्छा किया जा सकता था।

एक्टिंग

फिल्म में वरुण धवन ने अपने दोनों किरदार अच्छी तरह से निभाए हैं। तापसी और जैकलीन ने भी ठीक काम किया है, लेकिन फिल्म में दोनों के पास करने के लिए कुछ खास नहीं है। राजपाल यादव, जॉनी लीवर, अनुपम खेर और पवन मल्होत्रा ने भी ठीक काम किया है। कुछ मिनट के लिए सलमान खान भी नज़र आए, जिससे फिल्म में तड़का लग गया।

म्यूजिक

ऊंची है बिल्डिंग और टन टना टन टन टन टारा के अलावा इस फिल्म का और कोई गाना प्रभावित नहीं कर पाता। फिल्म में गानों को लंबाई बहुत ज्यादा है, जिसकी वजह से फिल्म लंबी हो गई है।

देखें या नहीं

त्योहार के मौसम में टाइम पास करना चाहते हैं तो एक बार फिल्म देखने जा सकते हैं।

 

loading...
शेयर करें