अभी-अभी : लालू को सज़ा होने के सदमे में बड़ी बहन निधन, शोक में डूबा पूरा परिवार

0

पटना। राजद अध्यक्ष और बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव को चारा घोटाले में साढ़े तीन साल की सजा हो गई। जिसके बाद उनकी पार्टी और परिवार को काफी बड़ा झटका लगा। वहीं, अब लालू के परिवार से एक और बड़ी दुख की खबर आ रही है। खबर के मुताबिक लालू प्रसाद यादव की बड़ी बहन गंगोत्री देवी का आज पटना में आकस्मिक निधन हो गया। उनकी उम्र 75 साल की थी।

यह भी पढ़ें : अटल बिहारी वाजपेयी, प्रणब मुखर्जी और मनमोहन सिंह को लग सकता है बड़ा झटका – SC करेगा फैसला

गंगोत्री देवी अपने 6 भाइयों में गंगोत्री देवी इकलौती बहन थी

गंगोत्री देवी अपने 6 भाइयों में गंगोत्री देवी इकलौती बहन थी। पिछले कुछ समय से गंगोत्री देवी बीमार चल रही थीं। लालू यादव को हुई सजा को लेकर भी वो काफी दुखी और सदमे में थीं। सीबीआइ की विशेष अदालत द्वारा लालू यादव को सजा सुनाये जाने के पहले राजद सुप्रीमो की बहन दिनभर उनकी रिहाई के लिए दुआएं मांगी थी। बताया जा रहा है कि लालू यादव को सजा सुनाये जाने को लेकर सदमे में उनकी जान चली गयी। हालांकि मौत के पीछे के कारणों को लेकर अभी किसी तरह की कोई पुष्टि नहीं हुई है।

यह भी पढ़ें : गुजरात में कांग्रेस के लिए खड़ी हुई सबसे बड़ी मुसीबत, हार्दिक पटेल ने कर दी ये मांग

लालू बहन के अंतिम संस्कार में शामिल हो सकते हैं

हांत की खबर मिलते ही राबड़ी देवी परिवार के साथ गंगोत्री देवी के पटना स्थित वेटेनरी कॉलेज के आवास पर पहुंच गई। गंगोत्री देवी के अंतिम संस्कार की तैयारी हो रही है। भाई लालू बिरसा मुंडा जेल में हैं और वे अंतिम संस्कार में शामिल हो सकें इसके लिए उनके वकील पैरोल लेने की कोशिश में लगे हैं। अदालत से अनुमति लेकर लालू बहन के अंतिम संस्कार में शामिल हो सकते हैं।

यह भी पढ़ें : पुणे हिंसा में आया चौंकाने वाला मोड़, सुरक्षा एजेंसियों ने किया हैरान करने वाला खुलासा

विश्वास नहीं हो रहा था कि उनका भाई को सजा हो जाएगी

गंगोत्री देवी के साथ रह रहे उनके बेटे का कहना है कि रात में भी जब मां की नींद खुलती थी तो वह अपने भाई के बारे में पूछती थी और कभी-कभी वह उनसे बात करने की भी जिद करने लगती थी। उन्हें अब भी विश्वास नहीं हो रहा था कि उनका भाई को सजा हो जाएगी। बता दें कि लालू पर साल 1990 से 1994 के बीच देवघर कोषागार से पशु चारे के नाम पर अवैध ढंग से 89 लाख, 27 हजार रुपये निकालने का आरोप है। इस दौरान लालू यादव बिहार के मुख्यमंत्री थे। हालांकि, ये पूरा चारा घोटाला 950 करोड़ रुपये का है, जिनमें से एक देवघर कोषागार से जुड़ा केस है। इस मामले में फैसला आया और दोषियों को सजा सुनाई गई।

loading...
शेयर करें