जानिये घर पर कैसे बनाएं स्वादिष्ट और चटपटा मटर का भरवां पराठा

0

हरे मटर से आप मटर की सब्ज़ी और दूसरे कई व्यंजन जैसे आलू मटर, गाजर मटर पुलाव, मटर पनीर वगैरह तो आप अक्सर बनाते होंगे पर आज हम आपको बताने जा रहे हैं मटर का भरवां पराठा बनाना। बाजार में ताज़ी या फ्रोजन मटर सालभर मिलते हैं। लेकिन कुछ लोग इन्हें सर्दियों में बनाना पसंद करते हैं क्यूंकि उस समय बाजार में ताज़े मटर मिलते हैं और ठंडे मौसम में भरवां पराठे खाने का मज़ा ही कुछ और होता है।

मटर का पराठा

मटर का भरवां पराठा आपने आप में काफी है लेकिन फिर भी आप चाहें तो इसे किसी भी चटनी या अचार के साथ खा सकते हैं। ठन्डे होने पर भी ये पराठे बहुत स्वादिष्ट लगते हैं। ताज़े मटर के परांठे की रेसिपी एक बहुत ही सरल रेसिपी है जिसे आप नाश्ते से लेकर दोपहर के खाने और रात के खाने तक कभी भी तुरंत बना सकते हैं। आमतौर पर बच्चे भी मटर बहुत पसंद करते हैं इसलिए मटर के परांठे आप बच्चों को स्कूल के टिफ़िन में भी दे सकते हैं। तो आइये देखते हैं मटर का भरवां पराठा बनाने के लिए विधि।

आवश्यक सामग्री-

गेहूं का आटा- 2 कप (300 ग्राम)

मटर के दाने- 1 कप

हरी मिर्च- 2

उबले आलू- 3 (350 ग्राम)

तेल- 2 से 3 टेबल स्पून

हरा धनिया- 2 से 3 टेबल स्पून (बारीक कटा हुआ)

हरी मिर्च- 2 (बारीक कटी हुई)

अदरक का पेस्ट- ½ छोटी चम्मच

जीरा- ½ छोटी चम्मच

हल्दी पाउडर- ¼ छोटी चम्मच

धनिया पाउडर- 1 छोटी चम्मच

गरम मसाला- ¼ छोटी चम्मच

लाल मिर्च पाउडर- ¼ छोटी चम्मच

अमचूर- ½ छोटी चम्मच

नमक- 1 ¼ छोटी चम्मच या स्वादानुसार

पराठे बनाने के लिए कुछ तैयारियां कर लीजिए जैसे कि हरी मिर्च और मटर का पेस्ट बनाकर रख लीजिए। उबले आलू को छील लीजिए। किसी बड़े प्याले में आटा लीजिए। इसमें ½ छोटी चम्मच से ज्यादा नमक और 1 छोटी चम्मच तेल डालकर मिक्स कर लीजिए। थोड़ा-थोड़ा पानी मिलाते हुए सादे पराठे की तरह ही नरम आटा गूंथ लीजिए। आटे को सैट होने के लिए 20 मिनिट तक ढककर रख दीजिए। इतना आटा लगाने में पूरा 1 कप पानी लग जाता है।

स्टफिंग बनाएं- पैन गरम करके इसमें 2 छोटी चम्मच तेल डाल दीजिए। तेल के अच्छे से गरम हो जाने पर इसमें जीरा डालकर हल्का सा चटखा लीजिए। फिर, इसमें बारीक कटी हुई हरी मिर्च और अदरक का पेस्ट डालकर मिला दीजिए। आंच धीमी रखिए ताकि मसाले जल ना पाएं। मसाले में हल्दी पाउडर और धनिया पाउडर डालकर थोड़ा सा भून लीजिए। मसाले में हरी मिर्च- मटर का पेस्ट डाल दीजिए।  इसे भी हल्का सा भून लीजिए ताकि मटर के पेस्ट में जो पानी है, वह सूख जाए। फिर, इसमें छीलकर रखे हुए आलू तोड़कर डाल दीजिए और आलू को मैश करते हुए मसाले में मिला लीजिए। नमक, गरम मसाला, लाल मिर्च पाउडर और अमचूर भी डाल दीजिए। सारी चीजों में मसाले को मिलाते हुए अच्छे से भून लीजिए। स्टफिंग बनकर तैयार है। इसमें थोड़ा सा हरा धनिया डालकर मिक्स कर लीजिए और स्टफिंग को प्याले में निकाल लीजिए।

आटा सैट होने पर हाथ को तेल से चिकना कर लीजिए और आटे को 1 से 2 मिनिट मसल लीजिए। फिर, इसमें से थोड़ा सा आटा तोड़कर गोल लोई बना लीजिए। गोल लोई को सूखे आटे में लपेटिए और 3 से 4 इंच के व्यास में बेल लीजिए। इसके ऊपर थोड़ा सा तेल लगा लीजिए और इसमें स्टफिंग भर लीजिए। लोई को चारों ओर से उठाकर स्टफिंग को अच्छे से बंद कर दीजिए। इसे अंगुलियों से अच्छे से दबा लीजिए ताकि इसके अंदर स्टफिंग एकसार हो जाए। भरी हुई लोई को सूखे आटे में लपेटिए और हल्का दबाव देते हुए थोड़ा मोटा पराठा बेलकर तैयार कर लीजिए। कोशिश करें कि पराठे को किनारे से ही बेलें।

पराठा सेकने के लिए तवा गरम कीजिए। गरम तवे पर थोड़ा सा तेल डालकर चारों ओर फैला दीजिए। बेले गए परांठे को तवे पर डाल दीजिए और पराठे की निचली सतह सिकने दीजिए। इसी बीच, दूसरा पराठा इसी तरह बेल लीजिए। तवे पर सिक रहे पराठे को पलट दीजिए और जब पराठे के दूसरी ओर हल्की ब्राउन चित्ती आ जाए तब पहली सतह पर थोड़ा सा तेल डालकर चारों तरफ फैला दीजिए। परांठे को पलटकर दूसरी तरफ भी तेल डालकर फैलाइए। परांठे को किनारों से हल्का सा दबाव देते हुए दोनों ओर ब्राउन चित्ती आने तक मध्यम आंच पर सेक लीजिए। पराठे के सिककर तैयार होने पर इसे किसी प्लेट पर रखी प्याली पर रख लीजिए।  सारे पराठे इसी तरह सेककर तैयार कर लीजिए। इतने आटे से 8 पराठे बनकर तैयार हो जाएंगे।

मटर आलू के करारे और ज़ायकेदार पराठों को दही, चटनी, अचार या किसी भी ग्रेवी वाली सब्जी के साथ परोसिए और आलू मटर के भरवां पराठों के स्वाद का लुत्फ उठाइए।

सुझाव-

-अगर आप तीखा पसंद करते हैं, तो लाल मिर्च पाउडर और बढ़ा सकते हैं।

-पराठे अपनी पसंद के अनुसार छोटे या बड़े साइज के बना सकते हैं।

-पराठे में तेल लगाना ज़रूरी नही है लेकिन थोड़ा सा तेल लगा लें तो पराठे करारे और स्वादिष्ट बनते हैं।

-पराठे में स्टफिंग अपनी पसंद के हिसाब से थोड़ी कम या ज्यादा भर सकते हैं लेकिन बहुत ज्यादा स्टफिंग ना डालें।  स्टफिंग लोई के बराबर या उससे थोड़ी ज्यादा भर सकते हैं।

-पराठे बेलते समय पराठे पर ज्यादा दबाव ना डालें और पराठे को पतला भी ना बेलें वरना स्टफिंग बाहर आ सकती है।

-एकदम गरम पराठा प्लेट में ना रखें, इससे पराठा नीचे से गिलगिला हो सकता है।

 

loading...
शेयर करें